Menu
blogid : 27740 postid : 4

कोरोना : एक अहंकारी शाप या प्रशंसनीय वरदान ?

soch ka sahas

  • 2 Posts
  • 1 Comment

हॉलीवुड फिल्म ” कास्ट अवे ” में खुद को सुनसान और उजाड़ जंगल में पंद्रह सौ से अधिक दिनों तक जीवित रहने के अपने संघर्ष के दौरान चक नोलैंड (प्रतिष्ठित कलाकार टॉम हैंक्स द्वारा निभाया गया किरदार) अपने एकमात्र साथी विल्सन (जो की एक निर्जीव वॉलीबॉल है) से कहते हैं “हम जीते हैं और समय से मरते हैं- और हमें सही समय पर अपना रास्ता खोने की भूल नहीं करनी चाहिए । समय रहते हुए किया गया कार्य हमारे वर्तमान तथा महत्त्वपूर्ण रूप से हमारे भविष्य पर पड़ने वाले प्रभाव को निश्चित करता है और यह प्रमाणित करता है की वह कार्य सही था या गलत । इसमें बहुत देर हो सकती है लेकिन चक नोलैंड जीवित रहे क्योंकि उन्होंने सही समय पर अपना पथ नहीं खोया।

 

 

महामारी कोविड-19 रोग ने दुनिया के आधुनिक जीवन जीने वाले लगभग सात अरब से अधिक मनुष्यों को नुक्सान पहुँचा दिया है। लेकिन यह हुआ कैसे? क्या हमने सही समय पर सही निर्णय लेने में देर कर दी? इन प्रश्नों के विभिन्न उत्तर और औचित्य होंगे जिनमें से कई अपराधबोध से भरे होंगे। हर दिन हर जगह हर समय केवल एक-शब्द सुनाई दे रहा है “कोरोना”। लेकिन सोचने वाली बात यह है की क्या यह वायरस एक शाप है या एक वरदान की तरह आया है? यह निर्भर करता है कि यह कैसे समझा जाता है।

 

क्या कोरोना वायरस एक अहंकारी शाप है?
अगर राष्ट्रीय / अंतर्राष्ट्रीय संगठनों, सरकारों के प्रमुखों, पुलिस और सुरक्षा में निर्णय लेने वाले अधिकारियों से पूछा जाए और शायद कई मेडिकोज़ भी जो दिन-रात काम कर रहे हैं और जिस प्रकार वायरस की प्रकृति और समाज पर इसके कुप्रभावों के बारे में अनिश्चितता है- यह निश्चित रूप से एक शाप जैसा दिखता है। यह बिना किसी जोरदार और स्पष्ट घोषणा किये इस तरह से सामने आया कि सख्त रणनीति तैयार करने का समय ही नहीं मिला।यहाँ ध्यान देने की आवश्यकता है कि वायरस ने कई मध्यम और उच्च वर्ग के लोगों की दैनिक दिनचर्या में थोड़ी बहुत असुविधा पैदा की है।कोई बाजार नहीं, कोई मॉल नहीं, कोई सिनेमा घर नहीं, कोई लाइव पार्टी नहीं, कोई शादी नहीं और कोई नौकर नहीं है।

 

 

 

इन विलासिता के सामानों को ना देखकर, हताशा के साथ-साथ खराब व्यवस्था के खिलाफ शिकायतें भी हुई हैं। विशेष रूप से हमारी अर्थव्यवस्था के विनाश से हमारी आजीविका प्रभावित हो रही है। इस वायरस के प्रसार को रोकने लिए गए कई फैसलों ने दैनिक वेतन आय वाले वर्ग के लोगों को पूरी तरह से दुखी कर दिया और इससे भी अधिक भारत और अन्य गरीब राष्ट्रों में शहरों द्वारा अस्वीकार किये गए प्रवासियों को स्थान छोड़ने पर विवश कर दिया है। अपने रास्ते पर, कई लोगों ने भूख की पीड़ा,कई अन्य प्रकार की बीमारियों और यहां तक कि पानी, भोजन, आश्रय और चिकित्सा सुविधाओं तक समय पर पहुंच न होने के कारण आत्मसमर्पण किया होगा। यह सच में एक शाप ही लगता है।
क्या कोरोना वायरस एक प्रशंसनीय वरदान है?
दूसरी तरफ़ जब बच्चों, प्रकृतिवादियों, पौधों, पक्षियों, कीड़ों और जानवरों, पर्यावरणविदों से यह प्रश्न पूछा गया तो उनके लिए जैसे यह वरदान जैसा लगता है।घायल पृथ्वी को एक मरहम लगाने वाले की आवश्यकता थी। हमें इस तरह के विश्व-एकीकरण की आवश्यकता थी जो पिछले सौ वर्षों या उससे कम के दौरान कभी नहीं था। कोई भी कलाकार, खिलाड़ी, धर्मगुरु, नेता इतना प्रभावशाली नहीं था जो पूरी दुनिया को एक मंच पर ला पाता। परन्तु यह एक अदृश्य वायरस कोरोना ने कर दिखाया। यह शायद एक वरदान ही है।

 

 

 

यह हर एक मानव को आत्मनिरीक्षण करने और सही करने के लिए मजबूर करके ग्रह को स्वस्थ करने के लिए ही आया है। – हम जो कर सकते हैं, हम सबसे अच्छा कर रहे हैं। यह एक ऐसी प्रगतिशील दुनिया की ओर काम कर रहा है जिसके लिए भविष्य के बच्चे , नाती-पोते , पक्षी , कीड़े , जानवर, पौधे, नदियाँ , जंगल, घाटियाँ और पहाड़ तत्पर हैं। चिंतित नहीं होना है – अर्थव्यवस्था वापस उछाल मारेगी क्योंकि मांगें हैं और मांगों को पूरा करने वाले भी हैं। यह एक अलग और बेहतर प्रकार की अर्थव्यवस्था होगी – वह जो प्रकृति के अनुरूप है – वह जो जलवायु परिवर्तन के दुष्प्रभावों को उलट सकती है। कोरोना वायरस आपका शुक्रिया।

 

 

 

सोचने वाली बात है चाहे यह वायरस शाप हो या वरदान, कोरोना ने निस्संदेह रूप से इंसानों की गैर-जिम्मेदाराना हरकतों, निर्दोष जानवरों के साथ दुर्व्यवहार की हिंसक प्रथाएं, प्रशासन की अपर्याप्तता, अमीर और गरीब दोनों देशों में स्वास्थ्य व्यवस्था की उपेक्षा आदि का परत दर परत खुलासा किया। यह एक कंप्यूटेड टोमोग्राफी (CT) स्कैन मेडिकल इमेजिंग इंस्ट्रूमेंट के समान है जो मानव शरीर की परत द्वारा आंतरिक सत्यों की परत को प्रकट करता है।

 

 

गांधीजी ने पिछली सदी में कहा था, “दुनिया में सभी की जरूरतों के लिए पर्याप्त है, लेकिन सभी के लालच के लिए पर्याप्त नहीं है”। अन्वेषण और पूंजीवाद के नाम पर हमारे लालच ने ध्रुवों, सितारों और अन्य ग्रहों तक विस्तार किया है। राष्ट्र अपने स्वामित्व और संप्रभुता के दावे पर लड़ रहे हैं जो वास्तव में प्रकृति की संपत्ति है। हम मानते हैं की हमने कोरोना से बहुत कठिन सबक सीखा है – हम अच्छे इंसान बनेंगे । लेकिन क्या हम उन कुछ अच्छी आदतों पर वापस जा सकते हैं जिनका बीज हमने कभी बोया था ? जैसे हमेशा एक साथ होना।

 

 

 

भावनाओं को एक साथ व्यक्त करना। दूसरों के लिए और उससे भी अधिक महत्वपूर्ण प्रकृति के लिए प्यार और सम्मान। यह ज़रूर संभव है। नई दवाओं और टीकों का आविष्कार करने की आवश्यकता है। इसका कोई जादूई इलाज नहीं है और इसमें एक या दो या तीन साल का समय लग सकता है । यह मानव व्यवहार की परीक्षण अवधि है। हमारे पास यह विश्वास है की अंत में यह सबके लिए एक नया और साफ़ उजाला लेकर आएगा।

 

 

 

 

डिस्क्लेमर : उपरोक्त विचारों के लिए लेखक स्वयं उत्तरदायी हैं। जागरण जंक्शन किसी भी दावे या आंकड़े का समर्थन नही करता है।

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *