Menu
blogid : 3738 postid : 1032

आधुनिक भारत के निर्माता बाल गंगाधर तिलक

Special Days

  • 1020 Posts
  • 2122 Comments


भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में ऐसे कई महानायक हैं जिन्होंने अपने महान कार्यों से देश को स्वतंत्र कराने में अहम भूमिका निभाई है. ऐसे ही एक महान नेता हैं लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक. बाल गंगाधर को आधुनिक भारत का निर्माता कहा जाता है स्वतंत्रता के साथ देश को आगे बढ़ाने के लिए शिक्षा पर जोर दिया था. लाल-बाल-पाल के बाल गंगाधर तिलक को देश लखनऊ समझौता और केसरी अखबार के लिए भी याद करता है.


bal-gangadhar-tilakबाल गंगाधर का बचपन


बाल गंगाधर तिलक का जन्म 23 जुलाई, सन 1856 ई. को भारत के रत्नागिरि नामक स्थान पर हुआ था. इनका पूरा नाम लोकमान्य श्री बाल गंगाधर तिलक था. तिलक का जन्म एक सुसंस्कृत, मध्यमवर्गीय ब्राह्मण परिवार में हुआ था. उनके पिता का नाम श्री गंगाधर रामचंद्र तिलक था. श्री गंगाधर रामचंद्र तिलक पहले रत्नागिरि में सहायक अध्यापक थे और फिर पूना तथा उसके बाद ठाणे में सहायक उप शैक्षिक निरीक्षक हो गए थे. वे अपने समय के अत्यंत लोकप्रिय शिक्षक थे. लोकमान्य तिलक के पिता श्री गंगाधर रामचंद्र तिलक का सन 1872 ई. में निधन हो गया.


प्रारम्भिक शिक्षा मराठी में प्राप्त करने के बाद गंगाधर को अंग्रेजी स्कूल में पढ़ने के लिए पूना भेजा गया. उन्होंने डेक्कन कॉलेज से स्नातक की पढ़ाई पूरी की. उनका सार्वजनिक जीवन 1880 में एक शिक्षक और शिक्षक संस्था के संस्थापक के रूप में आरम्भ हुआ. इसके बाद केसरी और मराठा उनकी आवाज के पर्याय बन गए.


भारत के वाइसरॉय लॉर्ड कर्ज़न ने जब सन 1905 ई. में बंगाल का विभाजन किया, तो तिलक ने बंगालियों द्वारा इस विभाजन को रद्द करने की मांग का ज़ोरदार समर्थन किया और ब्रिटिश वस्तुओं के बहिष्कार की वक़ालत की, जो जल्दी ही एक देशव्यापी आंदोलन बन गया.


भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के नरम दल के लिए तिलक के विचार उग्र थे. नरम दल के लोग छोटे सुधारों के लिए सरकार के पास वफ़ादार प्रतिनिधिमंडल भेजने में विश्वास रखते थे. तिलक का लक्ष्य स्वराज था, छोटे- मोटे सुधार नहीं और उन्होंने कांग्रेस को अपने उग्र विचारों को स्वीकार करने के लिए राज़ी करने का प्रयास किया. इस मामले पर सन 1907 ई. में कांग्रेस के सूरत अधिवेशन में नरम दल के साथ उनका संघर्ष भी हुआ.


सन 1908 में सरकार ने उन पर राजद्रोह का आरोप लगाकर मुकदमा चलाया. तिलक का मुकदमा मुहम्मद अली जिन्ना ने लड़ा. परंतु तिलक को 6 वर्ष कैद की सजा सुना दी गई. तिलक को सजा काटने के लिए मांडले, बर्मा भेज दिया गया


200px-Lal_Bal_Pal1907 में कांग्रेस गरम दल और नरम दल में विभाजित हो गई. गरम दल में तिलक के साथ लाला लाजपत राय और बिपिन चन्द्र पाल शामिल थे. इन तीनों को लाल-बाल-पाल के नाम से जाना जाने लगा. 1908 में तिलक ने क्रांतिकारी प्रफुल्ल चाकी और खुदीराम बोस के बम हमले का समर्थन किया जिसकी वजह से उन्हें बर्मा (अब म्यांमार) में जेल भेज दिया गया. जेल से छूटकर वे फिर कांग्रेस में शामिल हो गए और 1916-18 में ऐनी बेसेंट और मुहम्मद अली जिन्ना के साथ अखिल भारतीय होम रुल लीग की स्थापना की.


“स्वराज हमारा जन्म सिद्ध अधिकार है और मैं इसे लेकर रहूंगा” के नारे के साथ बाल गंगाधर तिलक ने इंडियन होमरूल लीग की स्थापना की. सन 1916 में मुहम्मद अली जिन्ना के साथ लखनऊ समझौता किया, जिसमें आज़ादी के लिए संघर्ष में हिन्दू- मुस्लिम एकता का प्रावधान था.


बाल गंगाधर तिलक बाल विवाह के विरुद्ध थे उन्होंने अपने कई भाषणों में इस सामाजिक कुरीति की निंदा की. वह एक अच्छे लेखक भी थे. उन्होंने मराठी में केसरी और अंग्रेज़ी में द मराठा के माध्यम से लोगों की राजनीतिक चेतना को जगाने का काम शुरू किया था. बाल गंगाधर ने बंबई में अकाल और पुणे में प्लेग की बीमारी के दौरान देश में कई सामाजिक कार्य किए जिनकी वजह से लोग उन्हें आज भी याद करते हैं.


1 अगस्त, 1920 को मुंबई में लोकमान्य तिलक की मृत्यु हो गई. उन्हें श्रद्धांजलि देते हुए महात्मा गांधी ने उन्हें आधुनिक भारत का निर्माता और नेहरू जी ने भारतीय क्रांति के जनक की उपाधि दी.


असल मायनों में आधुनिक भारत की नींव रखने वाले लोकमान्य तिलक को देश आज भी याद करता है. आज के नेताओं को इस महान शख्स से सबक लेने की जरुरत है.


Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *