Menu
blogid : 7002 postid : 1387538

टीम इंडिया के लिए खेला महज एक मैच, अब क्रिकेट को कहा अलविदा

किसी भी खिलाड़ी के लिए संन्यास लेने का इससे ज्यादा सही समय क्या होगा कि जब उसका आखिरी मैच कोई टूर्नामेंट का फाइनल हो और उसकी टीम वह टूर्नामेंट जीत जाए। कर्नाटक के बायें हाथ के तेज गेंदबाज श्रीनाथ अरविंद (33) ने मंगलवार को राज्य के विजय हजारे ट्राफी एकदिवसीय टूर्नामेंट का चैम्पियन बनने के बाद प्रथम श्रेणी क्रिकेट से संन्यास लेने की घोषणा की और लोगों को हैरान कर दिया।

cover


आईपीएल में कोहली की टीम से खेलते हैं

अरविंद ने 2015 में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ एक टी20 अंतरराष्ट्रीय मैच में भी देश का प्रतिनिधित्व किया था। अरविंद आईपीएल में रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर (आरसीबी) का प्रतिनिधित्व किया। विराट कोहील ने पॉवरप्ले में अरविंद का बड़े अच्छे से इस्तेमाल किया। अरविंद ने आईपीएल में 38 मैच खेले, जिसमें करीब 23 की औसत से 45 विकेट झटके।


rcb-sreenath-aravind


घरेलू क्रिकेट से लिया संन्यास

अरविंद ने कहा, ‘‘मैंने घरेलू क्रिकेट के सभी प्रारूपों से संन्यास लेने का फैसला किया है। मैं जीत के साथ करियर को खत्म करना चाहता था और विजय हजारे के फाइनल में जीत से बेहतर कुछ और नहीं हो सकता था’। मंगलवार को खेले गये फाइनल में कर्नाटक ने सौराष्ट्र को 41 रन से शिकस्त दी, अपने दस साल के करियर में अरविंद ने 56 प्रथम श्रेणी मैच में 186 विकेट झटके जिसमें दो बार पारी में पांच विकेट भी शामिल हैं।


Srinath-Aravind-2


एकमात्र अंतरराष्ट्रीय टी20 मैच खेला

श्रीनाथ अरविन्द ने भारतीय टीम के लिए एकमात्र अंतरराष्ट्रीय टी20 मैच के रूप में खेला था। उन्होंने यह मैच साल 2015 में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ धर्मशाला में खेला था।  अरविन्द ने प्रथम श्रेणी में 56 मैच खेले हैं और 3 के कम इकॉनमी के रनरेट से उन्होंने 186 विकेट अपने नाम किये। लिस्ट-ए-करियर में उनके 41 मैचों में 57 विकेट हैं और साथ ही उन्होंने 84 टी20 मैचों में शिरकत की और 103 विकेट प्राप्त किये हैं।


Dharamsala: Indian cricketers Sreenath Aravind and Suresh Raina celebrate fall of a wicket during the 1st T20 match between India and South Africa at Himachal Pradesh Cricket Association Stadium in Dharamsala, on Oct 2, 2015. (Photo: IANS)


बेहतरीन गेंदबाद थे अरविंद

अरविंद धीमी पिचों पर अक्सर बायें हाथ से स्पिन गेंदबाजी भी करते थे। उन्होंने 84 टी20 मैचों में 103 विकेट लिये, उन्होंने आईपीएल के कुछ सत्रों में रॉयल चैलेंजर बेंगलुरु के लिए भी खेला हैं। अरविंद ने कहा कि टीम में प्रसिद्ध कृष्णा और टी प्रदीप जैसे काबिल तेज गेंदबाजों के आने के बाद उन्होंने करियर के शीर्ष पर संन्यास लेने का फैसला किया।


South-Africas-JP-Duminy-C-celebrates-after-victory-as-Indias-S-Aravind21


यही समय पर लिया संन्यास का फैसला

अरविंद ने कर्नाटक राज्य क्रिकेट संघ (केएससीए) का शुक्रिया अदा करते हुये कहा, ‘मैं किसी प्रतिभावान खिलाड़ी के रास्ते का रोड़ा नहीं बनना चाहता हूं। मुझे लगा यह सही समय है, मैंने इस फैसले के बारे में टीम के खिलाड़ियों को कल रात ही बता दिया था। राज्य का प्रतिनिधित्व का मौका देने के लिए मैं केएससीए का शुक्रगुजार हूं, मैं अपने अभिभावकों और भगवान का भी आभारी हूं’।…Next


Read More:

कोई इंजीनियर तो कोई MBBS, इतने पढ़े लिखे हैं ये 6 भारतीय क्रिकेटर

दो विश्वकप जीत का हिस्सा रह चुके हैं श्रीसंत, जयपुर की राजकुमारी से की है शादी

अजहरुद्दीन ने डेब्यू मैच में लगाया था शतक, सलमान की गर्लफ्रेंड से की थी दूसरी शादी

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *