Menu
blogid : 7002 postid : 1391562

पहले जैसे फिनिशर नहीं रहे धोनी! अनिल कुंबले ने काबिलियत पर उठाया सवाल

भारतीय टीम के पूर्व कप्तान एम एस धोनी के दिन इन दिनों कुछ ठीक नहीं चल रहे हैं। धोनी ने भले ही आईपीएल में अच्छा खेल दिखाया हो लेकिन भारतीय टीम में अब तक उनका प्रर्दशन कुछ खास नहीं रहा है। एशिया कप में धोनी की बल्लेबाजी को लेकर उनकी लगातार आलोचना की जा रही है. एम एस धोनी का बल्ला जहां इंग्लैंड दौरे पर वनडे और टी20 में शांत रहा वहीं एशिया कप में भी धोनी कुछ खास नहीं कर पाए. माही की बल्लेबाजी की आलोचना करने वालों में अब टीम इंडिया के पूर्व कप्तान और दिग्गज लेग स्पिनर अनिल कुंबले भी शामिल हो गए हैं।

Shilpi Singh
Shilpi Singh 3 Oct, 2018

 

 

पहले वाली नहीं रही बात

धोनी जब पहले आखिरी ओवर या मीडिल एवर में आते थे तो गेंदबाजों को सर्तक हो जाना पड़ता था, लेकिन अब धोनी के बल्ले से वो धार नहीं निकल रही है। इंग्लैंड के दौरे के साथ ही वो एशिया कप में भी असफल रहे। ऐसे में जब धोनी को लेकर अनिल कुंबले से सवाल किए गए तो उन्होंने कहा कि, ‘धोनी के खराब प्रदर्शन के चलते भारतीय टीम महेंद्र सिंह धोनी के खराब प्रदर्शन के चलते भारतीय टीम का मध्यक्रम इन दिनों संतुलित नहीं दिख रहा है’।

 

 

टीम धोनी पर न रहे निर्भर

पहले की तरह अब टीम को धोनी पर निर्भर नहीं रहना चाहिए। कुंबले मुताबिक, माही अब पहले की तरह गेम को फिनिश नहीं कर सकते। कुंबले का मानना है महेंद्र सिंह धोनी को 2019 क्रिकेट विश्व कप तक एक विकेटकीपर के रूप में खेलना चाहिए। अब धोनी से पहले की तरह आक्रामक बल्लेबाजी की उम्मीद करना ठीक नहीं है, ये जिम्मेदारी किसी नए खिलाड़ी को देनी चाहिए।

 

 

विश्व कप का रहेंगे हिस्सा

अनिल कुंबले ने आगे कहा कि जिस तरह से पहले महेंद्र सिंह धोनी का बल्ला आग उगलता था अब महेंद्र सिंह धोनी अब वेसे नहीं रहे हैं और उनसे अब हर मैच में अच्छा प्रदर्शन की उम्मीद भी नहीं करनी चाहिए। लेकिन फिर भी भारतीय टीम मैनेजमेंट को धोनी को बतौर विकेटकीपर टीम में बनाए रखना चाहिए।

 

 

एशिया कप में ऐसा था प्रर्दशन

एशिया कप 2018 में धोनी का बल्ला बिल्कुल शांत रहा, धोनी ने एशिया कप में 6 मैचों की 4 पारियों में बल्लेबाजी की जिनमें धोनी महज 77 रन ही बना सके इस दौरान उनका सर्वोच्च स्कोर 36 रन रहा।…Next

 

Read More:

रोहित और धवन ने तोड़ा सचिन-सहवाग का ये रिकॉर्ड, धवन का नाम रिकॉर्ड बुक में दर्ज

क्रिकेट मैदान के बाहर हिंदी कमेंटरी से चौके छक्के लगा रहे हैं ये 5 भारतीय क्रिकेटर

Injury या बीमारी के बाद और खतरनाक हो गए ये खिलाड़ी, धाकड़ थी वापसी

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *