Menu
blogid : 7002 postid : 1389916

IPL के अंपायरों को इतनी मिलती है फीस, जानें कैसे होता है सेलेक्शन

जब भी क्रिकेट की बात होती है तो हर किसी के मन में बस एक ही नाम आता है और वो हैं खिलाड़ी। लेकिन खिलाड़ियों के अलावा जो मैच में सबसे अहम भूमिका निभाता है वह है अंपायर जिनके निर्णय से ही मैच का रुख बदलता है। क्रिकेट के मैदान में भले ही कई बेहतरीन खिलाड़ी अपना जलवा बिखरते हो, लेकिन अंपायर का फैसला ही पूरे मैच की जीत-हार तय करता है।ऐसे में आज हम आपको अंपायरों की फीस के बारे में बताने जा रहे हैं। जाहिर सी बात है कि आपको अंपायरों के भी मैच के लिए भारी फीस मिलती है और वह एक मैच के लिए खिलाड़ियों की तरह ही करोड़ो रूपए लेते हैं।

 

 

आईपीएल में अंपायरों की दो श्रेणी होती है

बता दें कि आईपीएल में अंपायरों की दो श्रेणी होती है, जिसमें एलीट अंपायर और एंट्री लेवल अंपायर शामिल है। रिपोर्ट्स के अनुसार एलिट अंपायर को 2700 डॉलर से 3200 डॉलर (एक लाख 92 हजार रुपये) दिए जाते हैं, जबकि एंट्री लेवल अंपायरों को हर मैच के 1000 डॉलर दिए जाते हैं। पूरे सीजन की बात करें तो एलिट अंपायरों को पूरे सीजन में करीब 60 हजार डॉलर (साढ़े तीन करोड़ रुपये) मिल सकते हैं, जबकि एंट्री लेवल के अंपायर 20 हजार डॉलर (12 लाख रुपये) तक कमा पाते हैं।

 

 

ऐसे होती है अंपायरों की सैलरी

कई खेल वेबसाइटों के अनुसार वन-डे और टेस्ट मैच में अंपायरों की सैलरी टूर्नामेंट आदि पर निर्भर करती है। वहीं औसत अंदाजा लगाया जाए तो उनकी बेसिक सैलरी 30 हजार डॉलर से 50 हजार डॉलर के बीच होती है और टेस्ट मैच में 3000 डॉलर और वनडे मैच के लिए करीब 1000 डॉलर दिए जाते हैं।

 

 

अंपायर बनने के लिए योग्यता

अंपायर बनने के लिए क्रिकेट के 42 नियमों को जानना आवश्यक है. क्रिकेट की बेहतरीन समझ होनी चाहिए. साथ ही अंपायर का व्यवहार भी काफी मायने रखता है।

 

 

अंपायर बनने के लिए परीक्षाएं होती हैं

अंपायर बनने के लिए राज्य स्तरीय स्पोर्ट बॉडियों द्वारा समय-समय पर प्रयोगात्मक और लिखित परीक्षाएं आयोजित की जाती हैं। अगर व्यक्ति इस परीक्षा में पास हो जाता है तब वह बीसीसीआई के द्वारा आयोजित की जाने वाली अंपायरिंग परीक्षा में बैठने के लिए योग्य माना जाता है।

 

 

बीसीसीआई तय करता है रुपरेखा

अगर व्यक्ति इस दूसरे स्तर की परीक्षा को पास कर लेता है तो उसे बीसीसीआई पैनल के लिए चुन लिया जाता है और कुछ दिनों तक राष्ट्रीय मैचों में अंपायरिंग करने के बाद व्यक्ति को अंतरराष्ट्रीय मैचों में अंपायरिंग करने का मौका दिया जाता है।Next

 

 

Read More:

IPL के इस खिलाड़ी के पिता करते हैं सिलेंडर डिलीवरी, भाई चलाता है ऑटो

IPL 2018: रन बनाने में आगे भारतीय, लेकिन जलवा बिखेर रहे विदेशी खिलाड़ी

IPL इतिहास में इन 10 बॉलर्स की हुई सबसे ज्यादा धुनाई, लिस्ट में 7 इंडियन

 

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *