Menu
blogid : 7002 postid : 1392496

चेतेश्वर पुजारा से मनोज तिवारी तक, इन भारतीय क्रिकेटर्स को इस साल नहीं मिले खरीदार

आईपीएल सीजन-12 के लिए नीलामी में कई भारतीय खिलाड़ियों की किस्मत खराब निकली। इंटरनेशनल क्रिकेट पर बड़ा कारनामा करने वाले इन दिग्गजों पर किसी फ्रेंचाइजी ने भरोसा नहीं दिखाया। आइए जानते हैं उन भारतीय खिलाड़ियों के बारे में जिन पर किसी फ्रेंचाइजी ने दांव नहीं खेला और उन्हें खाली हाथ ही लौटने पड़ा।

Shilpi Singh
Shilpi Singh 21 Dec, 2018

 

 

1. चेतेश्वर पुजारा

टीम इंडिया के टेस्ट स्पेशलिस्ट बल्लेबाज चेतेश्वर पुजारा पर भी किसी फ्रेंचाइजी ने भरोसा नहीं दिखाया। हालांकि आईपीएल में पुजारा पहले किंग्स इलेवन पंजाब और रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के लिए खेल चुके हैं। पुजारा का बेस प्राइज 1.5 करोड़ रुपये था।

 

 

2. मनोज तिवारी

कोलकाता नाइटराइडर्स और दिल्ली डेयरडेविल्स के लिए खेल चुके भारतीय क्रिकेटर मनोज तिवारी इस नीलामी में 50 के बेस प्राइज के साथ उतरे थे, पर अफसोस इस खिलाड़ी पर फ्रेंचाइजियों ने भरोसा नहीं दिखाया।

 

 

3. नमन ओझा

राजस्थान रॉयल्स, दिल्ली डेयरडेविल्स  और सनराइजर्स हैदराबाद जैसी टीमों से खेल चुके विकेटकीपर-बल्लेबाज नमन ओझा को भी नीलामी में खाली हाथ लौटना पड़ा। ओझा का बेस प्राइज 75 लाख था, जिसे किसी फ्रेंचाइजी ने नहीं खरीदा।

 

 

4. सौरभ तिवारी

अपने तेज स्ट्राइक रेट से क्रिकेट फैंस का दिल जीतने वाले मिडिल ऑर्डर बल्लेबाज सौरभ तिवारी को भी किसी फ्रेंचाइजी ने नहीं खरीदा। सौरभ तिवारी का बेस प्राइज 50 लाख रुपये था। सौरभ तिवारी वही खिलाड़ी हैं, जिनकी तुलना कभी टीम इंडिया के पूर्व कप्तान एमएस धोनी से की जाती थी। दोनों ही खिलाड़ी झारखंड से भी ताल्लुक रखते हैं।

 

 

5. विनय कुमार

रॉयल चैंलजेंर्स बैंगलोर, मुंबई इंडियंस और कोलकाता नाइटराइडर्स के लिए खेल चुके तेज गेंदबाज विनय कुमार पर भी किसी ने भरोसा नहीं दिखाया। नीलामी में विनय कुमार का बेस प्राइज 50 लाख रुपये था।

 

 

6. मनप्रीत गोनी

 

 

कभी चेनन्ई सुपरकिंग्स और पंजाब के लिए गेंदबाजी कर चुके मनप्रीत गोनी ने इस साल अपना बेस प्राइज 50 लाख रखा था, लेकिन उन्हें कोई खरीदार नहीं मिला।…Next

 

Read More:

इस साल कोहली की कप्तानी में तीन देशों में जीत, 15 साल बाद एडिलेड में मिली जीत खास

ऑस्ट्रेलिया के पर्थ स्टेडियम में भारत के लिए खराब रहा है रिकॉर्ड, नसीब हुई सिर्फ एक बार जीत

पहला टेस्ट जीतने के बाद 14 में से सिर्फ एक सीरीज हारी है टीम इंडिया, बना सकती है ये रिकॉर्ड

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *