Menu
blogid : 7002 postid : 1390953

15 अगस्त को जब भी भारतीय टीम ने खेला मैच, कुछ ऐसे रहे नतीजे

Shilpi Singh

15 Aug, 2018

आज स्वतंत्रा दिवस है, लेकिन भारतीय टीम ने स्वतंत्रता दिवस के दिन अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मैच कम ही खेले हैं। ऐसे में चलिए एक नजर ड़ालते हैं उन मौकों पर भारतीय टीम ने 15 अगस्त को मैच खेला हो या फिर उस दिन जीत दर्ज की है।

 

 

15-18 अगस्त 1936भारत- इंग्लैंड- ओवल

विजनगरम के महाराज (विज्जी) की कप्तानी में ब्रिटेन के अधीन भारत के यह दौरा काफी उतार-चढ़ाव वाला रहा था और उसदौर तक भारत आजाद नहीं हुआ था। लॉर्ड्स में सीरीज का पहला टेस्ट हारने के बाद मैनचेस्टर का दूसरा टेस्ट भारत ड्रॉ कराने में कामयाब रहा था। ओवल में खेला गया तीसरा टेस्ट में इंग्लैंड ने पहले खेलते हुए वॉली हेमंड के दोहरे शतक की बदौलत 471/8 का विशाल स्कोर खड़ा किया। 222 रनों पर ऑल आउट होने को बाद भारत ने सीके नायडू के 81 रनों के सहारे फॉलोऑन पारी में 312 रन बनाए। आखिरकार इंग्लैंड ने जीत के लिए आवश्यक 64 रन बनाकर वह टेस्ट 9 विकेट से जीत लिया।

 

 

14-19 अगस्त 1952इंग्लैंड- ओवल

ये पहला मैच था जो भारत ने आजादा देश के तौर खेल था, भारतीय टीम ने सीरीज का आखिरी टेस्ट ओवल में खेला था. इंग्लैंड ने 326/6 रनों पर अपनी पहली पारी घोषित कर दी थी। जवाब में भारतीय टीम ने 49 रनों पर पांच विकेट गंवा दिए थे।बारिश प्रभावित इस टेस्ट में वह 98 रनों पर ऑल आउट हो गई। लगातार बारिश की वजह से उस टेस्ट का परिणाम नहीं निकल पाया और ये मैच ड्रॉ रहा।

 

 

14-17 अगस्त 2001   श्रीलंका- गॉल

सौरव गांगुली की कप्तानी में सीरीज के पहले ही टेस्ट में भारत को श्रीलंका ने तगड़ा झटका दिया था। 14 अगस्त को पहले दिन भारत 163 रनों पर 5 विकेट खो चुका था। अगले दिन स्वतंत्रता दिवस पर टीम कुछ करिश्मा नहीं कर पाई और 187 रनों पर सिमट गई। जबाव में श्रीलंका ने सनथ जयसूर्या और कुमार संगकारा (पहला शतक) के सैकड़े की बदौलत 362 रन बनाए। लेकिन दूसरी पारी में भारतीय टीम एक बार फिर असफल रही और 162 रनों पर सिमट गई। श्रीलंका ने चौथे दिन जीत के लिए 6 रन बनाकर टेस्ट मैच 10 विकेट से जीत लिया।

 

 

15-17 अगस्त 2014 इंग्लैंड- ओवल

 

 

पांच टेस्ट मैचों की सीरीज के इस आखिरी टेस्ट में भारत को एक बार फिर मैनचेस्टर टेस्ट की तरह पारी की हार झेलनी पड़ी। उस ओवल टेस्ट में भारत ने स्वतंत्रता दिवस के मौके पर निराशाजनक शुरुआत की। पहली पारी में 148 रन ही बन पाए, कप्तान महेंद्र सिंह धोनी (82 रन) के अलावा भारत का बल्लेबाजी क्रम नाकाम रहा। जबाव में इंग्लैंड ने जो रूट के नाबाद 149 और कप्तान एलिस्टेयर कुक की 79 रनों की पारी की बदौलत 486 रन बनाए। लेकिन दूसरी पारी में एक बार फिर भारत ने अपनी पुरानी कहानी दोहराई और इस बार टीम 94 रनों पर लुढ़क गई। इंग्लैंड ने वह टेस्ट मैच पारी और 244 रनों से जीत लिया।…Next

 

 

Read More:

टीम इंडिया के पांच बड़े खिलाड़ी वनडे में हिट, लेकिन टेस्ट में हुए फेल

अफरीदी से मोहम्मद शमी तक, इन क्रिकेटरों के रहे हैं एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर्स

एशिया के बाहर पिछले 5 सालों से फ्लॉप हैं धवन, बना पाए हैं केवल एक शतक

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *