Menu
blogid : 7002 postid : 1374701

शाहिद अफरीदी से श्रीनाथ तक, जब ‘रिटायरमेंट’ के बाद दोबारा मैदान पर उतरे ये क्रिकेटर

क्रिकेट एक ऐसा खेल जो भारत समेत दुनियाभर में बेहद पंसद किया जाता है। इस खेल और इसके खिलाड़ी को अक्सर खुद को साबित करना पड़ता है। कुछ खिलाड़ियों को क्रिकेट से ऐसा प्यार रहा कि वे इस खेल से संन्यास लेने के बाद भी संन्यास तोड़कर खेल के मैदान में वापस लौटे। ऐसे मे चलिए एक नजर ड़ालते हैं उन सितारों पर।


cover ret



1. शाहिद अफरीदी

पाकिस्तान का ये विस्फोटक बैट्समैन रिटायरमेंट लेने और दोबारा वापसी के लिए मशहूर है। अपने क्रिकेट करियर में अफरीदी अबतक कई बार रिटायरमेंट लेकर वापसी कर चुके हैं। 2006 में अफरीदी ने टेस्ट से रिटायरमेंट की घोषणा और साल 2010 में वापस आए वो भी बतौर कप्तान। 2011 वर्ल्ड कप के बाद कोच वकार यूनिस के साथ मतभेदों के चलते उन्होंने रिटायरमेंट की घोषणा कर दी। हालांकि कुछ महीनों बाद ही उनकी वापसी दोबारा टीम में हो गई। इसके बाद उन्होंने 2015 का क्रिकेट वर्ल्ड कप भी खेला।


Shahid Afridi



2. केविन पीटरस

इंग्लैंड के पूर्व कप्तान केविन पीटरसन ने भी साल 2011 में वनडे क्रिकेट से संन्यास ले लिया था। पीटरसन ने इंग्लैंड क्रिकेट बोर्ड और कोच पीटर मूर्स से विवादों के चलते संन्यास लिया था। कुछ महीनों बाद उन्होंने क्रिकेट के सभी फॉर्मेट में खेलने के ऐलान के साथ वापसी की।



kp



3. जवगल श्रीनाथ

भारत के इस तेज गेंदबाज ने भी अप्रैल 2002 में क्रिकेट को अलविदा कह दिया था। लेकिन सौरभ गांगुली ने कप्तान बनते ही श्रीनाथ को क्रिकेट में वापसी के लिया मनाया। गांगुली के जोर देने पर उन्होंने संन्यास से वापसी की और 2003 वर्ल्ड कप में भारत को फाइनल तक पहुंचाने में मदद की।


srinath



4. जावेद मियांदाद

जावेद मियांदाद ने एक समय में वनडे क्रिकेट से संन्यास ले लिया था। लेकिन पाकिस्तान की तत्कालीन प्रधानमंत्री बेनजीर भुट्टो से बात करने के बाद वह 10 दिन बाद ही वनडे क्रिकेट में लौट आए। मियांदाद 6 वर्ल्ड कप खेलने वाले दुनिया के पहले खिलाड़ी बने थे।



jawed



5. इमरान खान


imran khan



पाकिस्तान के सबसे सफल कप्तानों में शुमार इमरान खान ने 1987 वर्ल्ड कप के बाद 35 साल की उम्र में क्रिकेट से संन्यास ले लिया था। लेकिन 1992 वर्ल्ड कप में पाकिस्तान के तब के राष्ट्रपति जिया उल हक चाहते थे कि वह पाक टीम की कमान फिर एक बार संभाले। 1992 वर्ल्ड कप के लिए 39 की उम्र में इमरान खान एक बार फिर वापस मैदान में आए और उन्होंने पाकिस्तान को वर्ल्ड कप की जीत का क्रिकेट में सुनहरा अवसर दिया।…Next


Read More:

वॉचमैन का बेटा बन गया ‘सर जडेजा’, मां की मौत के बाद नहीं खेलना चाहते थे क्रिकेट

इन 5 मौकों पर भारत ने 1 रन से जीता मैच, बेहद रोमांचक था मुकाबला

ये 5 बल्लेबाज हर तरफ खेल सकते हैं शॉट, जानें क्यों खास हैं ये खिलाड़ी

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *