Menu
blogid : 7002 postid : 184

क्या सीनियर खिलाड़ियों को बाहर जाना चाहिए?

भारतीय टीम की आस्ट्रेलिया में करारी हार का सारा ठीकरा सीनियर खिलाड़ियों के सर ही फूट रहा है. टीम इंडिया की इस हार ने एक बार फिर लक्ष्मण, द्रविड़ और सचिन के टीम से बाहर होने की नौबत ला खड़ी की है. इस पूरी श्रृंखला में भारतीय क्रिकेट टीम को अपने सीनियर खिलाड़ियों से बहुत उम्मीद थी पर सीनियर खिलाड़ियों के कमजोर प्रदर्शन ने टीम इंडिया की नाक कटा दी.


जहां पूरी सीरीज में सचिन अपने सौवें शतक के प्रेशर में दिखे वहीं लक्ष्मण और द्रविड़ अपनी ही तकनीक से मात खाते दिखे. सचिन ने सीरीज के तीन मैचों की छह पारियों में 249 रन बनाए वहीं लक्ष्मण ने 104 और द्रविड़ ने 168 रन ही बनाए. इसी पूरी सीरीज में अभी तक इन तीनों दिग्गजों में से किसी ने भी शतक नहीं जमाया.


Say goodbye to some senior playersसचिन: सौवें शतक के दबाव में

सचिन तेंदुलकर दबाव में पूरी तरह बिखर जाते हैं. यह कोई नई बात नही है. ऐसा पहले भी होता रहा है. इस सीरीज में भी कई अहम मौकों पर सचिन अपना मानसिक संतुलन खोते दिखे हैं. सीरीज में सचिन दो बार शतक के करीब लगे भी लेकिन ऐसा हो ना सका. हालांकि सचिन तेंदुलकर को टीम से हटाना अभी भारतीय क्रिकेट टीम वहन नहीं कर सकती. सचिन का कोई विकल्प हाल के सालों में है ही नहीं. इसलिए सचिन की तो टीम में जगह बनेगी ही बनेगी.


RAHUL DRAVIDद्रविड़: दीवार में दरार

जिस खिलाड़ी को उसकी तकनीक और डिफेंस के लिए दुनियाभर में “द वॉल” के नाम से जाना जाए वह ही क्लीन बोल्ड हो जाए तो प्रश्न उठना लाजिमी है.

राहुल द्रविड़ की टीम में जगह ही इसलिए है क्यूंकि वह पिच पर खड़े होकर काफी देर तक एक छोर संभाले रख सकते हैं. लेकिन इस पूरी सीरीज में वह एक नौसिखिए की तरह बैटिंग कर रहे हैं.

अगर जल्द ही टीम इंडिया के इस सीनियर खिलाड़ी ने अपना प्रदर्शन सही नहीं किया तो उनकी जगह रैना या कोहली जैसे युवा खिलाड़ी ले सकते हैं.


लक्ष्मण: उम्र का पड़ रहा है असर

इस हार का सबसे बड़ा नुकसान लक्ष्मण को ही उठाना पड़ सकता है. लक्ष्मण का हमेशा आस्ट्रेलिया के खिलाफ प्रदर्शन बेहतरीन रहता है पर इस बार ना जानें क्यूं वह इतना दब कर खेल रहे हैं. साफ है कि उम्र का असर उन पर होने लगा है. अगर सीरीज के बाद किसी सीनियर खिलाड़ी को हटाया जाएगा तो हो सकता है वह खिलाड़ी वीवीएस लक्ष्मण ही हों.


हालांकि एक सीरीज में बुरे प्रदर्शन से इन खिलाड़ियों की महानता पर शक करना गलत होगा पर अगर आने वाले समय में भारतीय क्रिकेट को अंधकार से बचाना है तो किसी ना किसी को तो बलिदान देना ही होगा. अब वक्त आ गया है कि टीम इंडिया के सीनियर खिलाड़ी जूनियर खिलाड़ियों के लिए जगह बनाएं और अपनी मर्जी से बाहर होने का फैसला लें.


Profile of Some Senior Players of Indian Cricket Team:

The Master: Sachin Tendulkar

The Wall: Rahul Dravid

Mister Special: VVS Laxman


Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *