Menu
blogid : 7002 postid : 418

धोनी के खिलाफ मुंह खोलोगे तो बाहर जाओगे !

sehwag and gambhirपारस पत्थर के नाम से मशहूर भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी आजकल चर्चा में हैं. वजह उनकी कप्तानी और बल्लेबाज के रूप में उनका खराब प्रदर्शन. वह एकदिवसीय और टी20 मैचों में बेहतर खिलाड़ी के साथ-साथ एक कामयाब कप्तान भी हैं लेकिन जब टेस्ट मैचों की बात आती है तो वह खुद को साबित करने में सफल नहीं हो पातें. उनके रंग-ढ़ंग और मिजाज से पता चलता है कि वह खुद अपने आप को टेस्ट के लिए उपयुक्त खिलाड़ी नहीं मानते हैं. कुछ महीने पहले कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने कहा था कि अगर वो 2015 विश्व कप तक खेलते हैं तो उन्हें टेस्ट क्रिकेट से संन्यास लेना पड़ सकता है.


Read: दूरदर्शन को अनमोल धुन देने वाला नहीं रहा


कुछ साल पहले तक अपनी चतुराई भरी कप्तानी से चयनकर्ताओं और आम दर्शकों में अपनी पहचान बनाने वाले धोनी के सितारे आजकल गर्दिश में है. आम दर्शक से लेकर मीडिया और पूर्व क्रिकेटर उनकी कप्तानी को लेकर चर्चा कर रहे हैं. चर्चा इस बात की हो रही है कि धोनी अब वैसे खिलाड़ी नहीं रहे जैसे वह अंतरराष्ट्रीय मैच में पर्दापण के बाद खेला करते थे. एक तरफ जहां पूर्व खिलाड़ी उन्हे कप्तानी छोड़ने की सलाह दे रहे हैं तो दूसरी तरफ टीम में भी कुछ ऐसे खिलाड़ी हैं जो उनकी कप्तानी के खिलाफ मोर्चा खोल चुके हैं. आइए जानते हैं कि कौन-कौन से ऐसे पूर्व और वर्तमान खिलाड़ी हैं जो उनकी कप्तानी को लेकर सहज महसूस नहीं कर रहें.


Read: कुछ इस तरह का है वालमार्ट का कड़वा सच


कपिल देव: भारत के लगातार  खराब प्रदर्शन से पूर्व क्रिकेटर और महान खिलाड़ी कपिल देव बहुत दुखी हैं. इसके लिए वह टीम के साथ-साथ कप्तान महेंद्र सिंह धोनी को अधिक जिम्मेदार मानते हैं. हालिया एक बयान में उन्होंने कहा था कि महेन्द्र सिंह धोनी की वर्तमान फॉर्म को देखते हुए उन्हें भारतीय टीम में नहीं खिलाया जाना चाहिए.


मोहिंदर अमरनाथ: धोनी के खिलाफ आवाज बुलंद करने में दूसरा सबसे बड़ा नाम है पूर्व चयनकर्ता और क्रिकेटर मोहिंदर अमरनाथ का. 1983 के विश्व कप में अहम भूमिका निभाने वाले अमरनाथ धोनी को कप्तान के रूप में उस समय से पसंद नहीं करते जब भारत 2011-2012 में लगातार आठ टेस्ट मैच हारा था. अमरनाथ, धोनी को कप्तान से हटाना चाहते थे लेकिन हुआ इसका बिल्कुल उलटा. बीसीसीआई ने सिलेक्शन कमेटी के सदस्य मोहिंदर अमरनाथ को हटा दिया. उन्होंने टी.वी कार्यक्रम में कहा कि धोनी परफॉर्म नहीं कर रहे हैं और उन्हें कप्तानी छोड़ देनी चाहिए.


सौरभ गांगूली: भारतीय टीम में युवराज सिंह और हरभजन सिंह जैसे खिलाड़ियों को लेकर आने वाले पूर्व कप्तान सौरभ गांगूली भी नहीं चाहते कि धोनी कप्तान के रूप में टीम को अपनी सेवा दें. पिछले दिनों उन्होंने कहा था कि महेंद्र सिंह धोनी को क्रिकेट के सभी प्रारूपों में भारतीय टीम की कप्तानी नहीं करनी चाहिए. उन्होंने आगे कहा कि चयनकर्ताओं को धोनी के साथ बैठकर पूछना चाहिए कि वह क्रिकेट के किस प्रारूप की कप्तानी करना चाहते हैं.


गौतम गंभीर: टीम इंडिया के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी और ओपनर गौतम गंभीर के बीच टकराव की स्थिति बनी हुई है. टीम के प्रदर्शन को लेकर इन दोनों खिलाड़ियों का सामना हो चुका हैं. गौतम गंभीर टीम में हो रहे अपने कम महत्व के लिए धोनी को जिम्मेदार मानते हैं. हाल ही में धोनी ने गंभीर पर आरोप लगाया है कि गंभीर क्रीज पर अपने लिए ही खेलते हैं.


वीरेंद्र सहवाग: टीम में कप्तानी को लेकर कई बार विरेंदर सहवाग और महेंद्र सिंह धोनी के बीच टकराव हो चुका है. कई बार सहवाग द्वारा दिए गए बयानों से लगता है कि वह मैदान पर धोनी के साथ सहज नहीं है. मीडिया की खबरों के अनुसार सहवाग का टीम में अंदर-बाहर होना कहीं न कहीं धोनी का ही हाथ माना जाता है.


वैसे तो धोनी के खिलाफ आवाज बहुत पहले उठने लगी थी लेकिन इसमें तेजी उस समय आई जब धोनी की कप्तानी में भारतीय टीम ने पिछले साल इंग्लैंड और आस्ट्रेलियाई टीम के साथ टेस्ट सीरीज खेली. इस सीरीज में भारत को शर्मनाक हार का सामना करना पड़ा था. धोनी लगातार मैच हार रहे हैं, जिसकी पूर्व खिलाड़ी और क्रिकेटर उनकी आलोचना कर रहे है. इन सबके बावजूद वह आज भी बाजार के लिए पारस पत्थर हैं जो हर समय चमकता रहता है.


Read:

भारतीय क्रिकेट टीम के खराब प्रदर्शन में इन सात चीजों का योगदान

इस खिलाड़ी ने भारतीय टीम को क्षेत्ररक्षण के गुर सिखाए


Tag: cricket, indian team, mahendra singh dhoni, bcci, gautam gambhir, india-england test series, virender sehwag, महेंद्र सिंह धोनी, गौतम गंभीर, बीसीसीआई


Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *