Menu
blogid : 7002 postid : 1389958

आईपीएल के इन हीरो को भूले दर्शक, कभी मैदान पर चलता था जादू

आईपीएल के ऐसा मंच है जिसने भारत समते दुनिया के क्रिकेट को नए सितारे दिए हैं। महीने पर से ज्यादा चलने वाले इस खेल में देश दुनिया के तमाम क्रिकेटर हिस्सा लेते हैं औऱ अपना जलवा दिखाते हैं। इस मंच से कई क्रिकेर निकले हैं औऱ आज वो अपने देश की मुख्य टीम का हिस्सा भी हैं। लेकिन कुछ ऐसे भी सितारे रहे जिन्हें आईपीएल ने शोहरत दी और नाम भी दिया लेकिन वो आज किसी गुमानामी में खो गए हैं और शायद ही उन्हें कोई याद करता है। तो चलिए एक नजर ड़ालते हैं ऐसे ही क्रिकेटरों पर जो एक दौर में हुए मशहूर लेकिन अब हैं मैदान से दूर।

Shilpi Singh
Shilpi Singh 25 Apr, 2018

 

 

1. पॉल वल्थाटी

नाम याद है या नहीं, उम्मीद है कि नहीं ही याद होगा ये सितारा था पंजाब की टीम का। पॉल ने 2009 में डेब्यू किया था, लेकिन उनका तहलका देखेन को मिला साल 2011 में। पॉल ने कई मौकों पर अपनी टीम को बेहतरीन शुरुआत दिलाई और जीत तक भी पहुंचाया। वल्थाटी ने आईपीएल 2011 में 35.61 के औसत से 14 मैचों में 463 रन बनाये थे। जहां उनका स्ट्राइक रेट 136.98 का था, टूर्नामेंट में उन्होंने एक शतक और 2 अर्धशतक लगाया था। पॉल ने चेन्नई के खिलाफ अपना बेहतरीन प्रर्दशन करते हुए 120 रन बनाए थे महज 63 गेंदो में। पॉल का आखिरी मैच साल 2013 में था, इसके बाद से उन्हें मैदान में कभी नहीं देखा गया।

 

 

2. स्वप्निल असनोदकर

गोवा के खिलाड़ी स्वप्निल ने राजस्थान की जर्सी में साल 2008 में दिखे थे, इसी सीजन में उन्होंने 311 रन बनाए थे। अपने 20 मैंचो में स्वपिनिल ने करीब 424 रन बनाए थे 21.15 की औसत थे। स्वप्निल ने अपना आखिरी मैच पंजाब के खिलाफ साल 2011 में खेला था। अपने खराब फॉर्म की वजह से उन्हें इसके बाद किसी भी टीम में जगह नहीं मिली और वो भी एक उभरते सितारे से गुमनामी के सितारे बन गए।

 

 

3. मानविंदर बिस्ला

मानविंदर को उनके खेल लिए जाना जाता है जो उन्होंने कोलकाता के लिए साल 2012 में खेला था। मानविंदर की शानादर बल्लेबाजी की बदौलत ही कोलकाता फाइनल मैच जीत पाई थी औरविजेता बन पाई थी साल 2012 की। चेन्नई के खिलाफ मानविंदर ने 89 रन बनाए थे महज 48 गेंदों में, इसके लिए उन्हें मैन ऑफ द मैच भी दिया गया था। मानविंंदर बल्लेबाज के साथ एक विकेटकीपर की भी भूमिका निभाते हैं, फिलहाल वो गोवा के लिए खेलते हैं, मानविंदर ने 39 मैचों में करीब 798 रन बनाएं है।

 

 

4. जोगिंदर शर्मा

भारतीय टीम को साल 2007 का विश्व कप दिलाने में अहम भूमिका निभाने वाले जोगिंदर शर्मा को लोग हमेशा याद करेंगे, लेकिन वो आईपीएल में वो जगह नहीं पाए। चेन्नई की टीम ने जोगिंदर को अपनी टीम का हिस्सा बनाया था, 16 मैचों में जोगिंदर ने करीब 12 विकेट लिए थे  और 6 मैचों में बल्लेबाजी करते हुए 36 रन बनाए। साल 2011 में जोगिंदर एक हादसे का शिकारा हो गए जिसके बाद से उन्होंने क्रिकेट से दूरी बना ली।

 

 

5. कामरान खान

आईपीएल 2009 में राजस्थान से डेब्यू करने वाले कामरान ने उत्तर प्रदेश के एक छोटे से गांव से गांव आते हैं, लेकिन उनकी प्रतिभा की वजह से उन्हें आईपीएल में जगह मिली थी।

 

 

आईपीएल के 2009 सीजन में 11 विकेट लेकर क्रिकेट प्रेमियों के बीच अपनी जगह बना ली थी। शानदार बॉलिंग को लेकर कामरान के एक्शन पर सवाल उठने के बाद बॉलिंग एक्शन को रिपोर्ट कर दिया गया। इसके बाद वो कभी वापसी नहीं कर पाए।Next

 

 

 

Read More:

IPL के इस खिलाड़ी के पिता करते हैं सिलेंडर डिलीवरी, भाई चलाता है ऑटो

IPL 2018: रन बनाने में आगे भारतीय, लेकिन जलवा बिखेर रहे विदेशी खिलाड़ी

IPL इतिहास में इन 10 बॉलर्स की हुई सबसे ज्यादा धुनाई, लिस्ट में 7 इंडियन

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *