Menu
blogid : 1048 postid : 998

एक ख्वाहिश सब इंस्पेक्टर बनने की

नई इबारत नई मंजिल

  • 197 Posts
  • 120 Comments

sub inspector in delhi policeसमान योग्यता और उम्र होने के बावजूद युवाओं के लक्ष्य अलग होते हैं। यही कारण है कि कुछ युवा आईएएस या अन्य परीक्षा में जाने के लिए तैयारी करते हैं, तो कुछ युवा डिफेंस या पैरा मिलिट्री सर्विसेज को वरीयता देते हैं। हाल ही में एसएससी ने सब इंस्पेक्टर पदों के लिए आवेदन आमंत्रित किए हैं। आवेदन करने की अंतिम तिथि 16 मार्च, 2012 तथा लिखित परीक्षा की तिथि 27 मई, 2012 है। अगर आप वाकई इस पद के लिए गंभीर हैं, तो आपको इस परीक्षा की तैयारी के लिए कठिन मेहनत अभी से शुरु कर दें।


आवश्यक योग्यता

सब इंस्पेक्टर पद के लिए शैक्षिक योग्यता किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय या संस्थान से किसी भी विषय में स्नातक की डिग्री जरूरी है। सामान्य अभ्यर्थियों के लिए उम्र सीमा 20 वर्ष से 25 वर्ष निर्धारित है, वहीं ओबीसी, एससी तथा एसटी को सरकारी नियमानुसार छूट का प्रावधान है।


होगी लिखित परीक्षा

सब इंस्पेक्टर पदों के लिए एक लिखित परीक्षा होगी, जिसके अंतर्गत दो पेपर जनरल एबिलिटी एंड इंटेलिजेंस तथा एस्से, प्रेसिस राइटिंग एंड कॉम्प्रिहेंसन से संबंधित प्रश्न पूछे जाएंगे। प्रथम पेपर के लिए तथा दूसरे पेपर के लिए अलग-अलग अंक निर्धारित होंगे। इसमें सफल होने के बाद पेट यानी कि फिजिकल एफिसियंसी टेस्ट से गुजरना होगा। इसके अंतर्गत फिजिकल स्टैंडर्ड को परखा जाएगा। उसके बाद इंटरव्यू या पर्सनैल्टी टेस्ट देना होगा। मेरिट लिस्ट लिखित परीक्षा के अंक तथा इंटरव्यू में प्राप्त अंकों के आधार पर होंगे।


सिलेबस का करें अध्ययन

जनरल एबिलिटी ऐंड इंटेलिजेंस के अंतर्गत जनरल मेंटल एबिलिटी, जनरल साइंस, करेंट इवेंट्स ऑफ नेशनल एंड इंटरनेशनल इंपोर्टेस, इंडियन पॉलिटी एंड इकोनॉमि, हिस्ट्री ऑफ इंडिया, इंडियन एंड व‌र्ल्ड ज्योग्राफी से प्रश्न पूछे जाएंगे। बेहतर होगा कि सिलेबस का अध्ययन कर लें।


अभ्यास से बनेगी बात

इस परीक्षा में प्रश्न-पत्र ऑब्जेक्टिव टाइप के होते हैं। इस कारण यदि प्रश्नों को तेजी और शुद्धता से हल करने की आदत नहीं है, तो अधिकांश प्रश्नों के जवाब दे पाना संभव नहीं है। ऐसी स्थिति से बचने के लिए अधिक से अधिक संख्या में प्रश्नों को हल करने का अभ्यास करें और शुद्धता का भी पूरा ध्यान रखें। उन्हें शॉर्टकट फार्मूले से हल करने का प्रयास भी करें। सभी खंडों पर बराबर ध्यान दें। कम से कम परीक्षा में पूछे गए दस वर्ष के प्रश्नों को जरूर बनाएं। अधिकांश परीक्षाओं में इतिहास के अंतर्गत स्वतंत्रता संग्राम से अधिकतर प्रश्न पूछे जाते हैं। इसकी तैयारी के लिए बारहवीं तक की एनसीईआरटी पुस्तकों को पढ़ने के अलावा विपिन चंद्रा के पुस्तकों को अवश्य पढ़ें। इंडियन पॉलिटिक्स के अंतर्गत महत्वपूर्ण अनुच्छेद तथा संविधान संशोधन, मौलिक अधिकार, मौलिक क‌र्त्तव्य, भारतीय संसद को विशेष रूप से पढ़ें। इसके लिए सुभाष कश्यप के अलावा डी.डी. बसु की पुस्तकों को अवश्य पढ़ें। इसके अतिरिक्त अन्य विषयों की तैयारी के लिए एनसीईआरटी पुस्तकों के अलावा यूनिक गाइड का अवश्य अध्ययन करें। एस्से राइटिंग के अंतर्गत भाषा शैली की परख की जाएगी। इसके लिए आप रोज अंग्रेजी और हिंदी अखबार के संपादकीय पेज को पढ़ने की आदत डालें। अभ्यास के लिए महत्वपूर्ण टॉपिक्स पर निर्धारित समय-सीमा के अंदर लिखने की कोशिश करें तथा उसमें जो कमियां रह जाती हैं, उसे समय रहते दूर करने की कोशिश करें। इस बात का ध्यान रखें कि यदि परीक्षा में सफल होना है, तो पहले ही आपकी तैयारी पूर्ण होनी चाहिए। यदि कुछ कमी है, तो उसे समय रहते दूर अवश्य कर लें। क्योंकि पद से बहुत अधिक अभ्यर्थी परीक्षा में बैठते हैं, लेकिन इनमें से कुछ का ही सेलेक्शन हो पाता है। यदि आप लिखित परीक्षा में सफल होते हैं, तो आपको साक्षात्कार के लिए बुलाया जाएगा। इसमें आपके व्यक्तित्व को परखा जाएगा। यदि आप इसमें भी सफल होते हैं, तो आपको इस पद के लिए चुन लिया जाएगा। ऐसा देखा जाता है कि कुछ लोग तैयारी से पहले ही किसी कार्य को मुश्किल मान लेते हैं, जिससे वह चाहकर भी उस जोश के साथ मेहनत नहीं कर पाते है, जितना आवश्यक है। हम अपने आस-पास देखें, तो पाएंगे कि जो कार्य आपके लिए मुश्किल है, वही किसी के लिए आसान भी है। जिन चीजों से आपको बोरियत होती है, वही किसी के लिए रुचिकर होता है। तमाम लोग ऐसे भी हैं, जो साधनों की दृष्टि से आपसे पीछे हैं और खराब परिस्थितियों में जीवन गुजारते रहे हैं, लेकिन उपलब्धियों के मामले में कहीं आगे निकल जाते हैं, क्योंकि वे अपनी कोशिशों को कभी नहीं छोडते। आपको सफल होने के लिए इन सब बातों से सीख लेनी होगी। खासकर कमांडेंट ऑफिसर पदों के लिए तो इस तरह के गुणों का होना आवश्यक माना जाता है। इस तरह की परीक्षा में शारीरिकि रूप से सक्षम और मानसिक रूप से मजबूत अभ्रूर्थियों को वरीयता दी जाती है। अगर आप इस तरह की परीक्षा में सफल होना चाहते हैं, तो आप नियमित व्यायाम को वरीयता दें और जो भी शारीरिक योग्यता मांगी जा रही है, समय रहते हासिल करें। यदि आप इस तरह की सोच रखकर तैयारी को अंतिम रूप देते हैं, तो आप इस परीक्षा में सफल हो सकते हैं।


Read Hindi News


Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *