Menu
blogid : 25489 postid : 1381320

ताकि, प्रथा विकास की चलती रहे …………..

Parivartan- Ek Lakshya

  • 23 Posts
  • 1 Comment

हाँ ,
लिखनी चाहिए –
यश गाथा भी ,
जब लगे
कि, ऐसा न करना
अन्याय है .
जब कोई करता हो
ह्रदय मिलाने की बात,
कायनात को
खुशियों से भर पाने की बात,
जब ,
कीर्तिमानों का प्रवाह ,
उमंगों अरमानों का उत्साह
साध कर समय
लिखता है
विश्व का भविष्य
तब लिखना चाहिए
वर्तमान की यश गाथा
ताकि ,
प्रथा विकास की चलती रहे .
************************

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *