Menu
blogid : 25489 postid : 1388201

चिंतन का दर्पण

Parivartan- Ek Lakshya

  • 23 Posts
  • 1 Comment

पशुता को
प्रौढ़ करता –
हिंसक चिंतन,
जब अधीर हो उठता
प्रभुता पाने को
तब,
श्रेष्ठता के साधे –
सारे ऊँचे मानक,
स्वर्णिम संदेशों का शांति पाठ,
यज्ञों की आहुतियां
और …….
स्वयं के साधे विश्वास
और प्रार्थनाऐं,
दे पाएंगे हमें
कितनी सुरक्षा !
चिंतन के दर्पण  में
कब पढ़ेंगे हम
समय को ?

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *