Menu
blogid : 2257 postid : 116

प्रिये तुम्हे कैसे भूल जाऊं ???

मंजिल की ओर

  • 21 Posts
  • 3 Comments

हांथो में तेरे हाँथ को लेकर
देखे थे जो हमने सपने
उनको अब कैसे बिसराउ
प्रिये तुम्हे कैसे भूल जाऊं ?

तन में ,मन में रोम – रोम में
हो दिल के हर एक धड़कन में
बिन तेरे कैसे रह पाऊं
प्रिये तुम्हे कैसे भूल जाऊं ?

घन तिमिर में खो गए कहाँ हो
कुछ तो बोलो प्रिये कहाँ हो
रोते दिल को क्या समझाऊं
प्रिये तुम्हे कैसे भूल जाऊं ?

आँखों से बहती अश्रु धाराए
पूछती हैं ये तुम क्यों न आये
बोलो तुम ही क्या बतलाऊं
प्रिये तुम्हे कैसे भूल जाऊं ?

मन के मीत तू लौट के आ जा
इन नयनो की प्यास बुझा जा
तनहा दिल अब जी ना पाऊं
प्रिये तुम्हे कैसे भूल जाऊं ?

आशुतोष अम्बर

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *