Menu
blogid : 14921 postid : 607635

हिन्दी ब्लॉगिंग हिन्दी को मान दिलाने में सार्थक हो सकती हैं या यह भी बाज़ार का एक हिस्सा बनकर रह जाएगी? CONTEST

मेरी कलम से
मेरी कलम से
  • 71 Posts
  • 20 Comments

हिन्दी ब्लॉगिंग हिन्दी को मान दिलाने में सार्थक हो सकती हैं या यह भी बाज़ार का एक हिस्सा बनकर रह जाएगी?   CONTEST

हिन्दी ब्लॉगिंग अर्थात एक आम भारतीय के लिए अपनी भाषा में अपनी बात रखने का इंटरनेट पर उपलब्ध एकमात्र स्त्रोत | वैसे तो ब्लॉगिंग, इंटरनेट पर अन्य भाषाओ में भी की जा सकती है लेकिन एक भारतीय को जब अपनी बात हिन्दी में रखने का मौका मिलता है तो वह कितना गर्व महसूस करता है, यह केवल वही जानता है |

दिन प्रतिदिन तकनीक में नित नए बदलाव होते हैं और उनका लाभ भी समय –समय पर मिलता रहता है | इसी कड़ी में हिन्दी ब्लॉगिग भी एक ऐसी तकनीक है जिसका लाभ हर आम भारतीय को उठाना चाहिए | आज इंटरनेट समाज से जुडने का एक आधुनिक तरीका है | यह लोगो का इतना बड़ा मंच है, जिसमें लाखो –करोड़ो भारतीय भी शामिल है | यदि हम इस मंच को अपनी म्रात्रभाषा को मजबूती दिलाने का माध्यम बनाना चाहे तो यह न केवल संभव है बल्कि आसान भी है |  इंटरनेट पर हिन्दी ब्लॉगिंग के माध्यम से हम अपनी बात इंटरनेट पर उपस्थित भारतीयो तक पहुचा सकते हैं और साथ ही उनकी राय भी ले सकते हैं | अनेक भारतीय अपनी म्रात्रभाषा पर अच्छी –ख़ासी पकड़ होने के बावजूद भी इंटरनेट पर अपनी बात नहीं रख पाते ओर इसका मुख्य कारण इंटरनेट पर हिन्दी जैसी रोचक, प्रेमपूर्ण ओर कोमल भाषा का पिछड़ जाना है | हिन्दी ब्लॉगिंग का प्रयोग करके हम न केवल इस पिछडेपन को दूर कर सकते हैं, बल्कि अनेको-अनेक भारतीयो के मन में घर कर चुकी हीन भावना को समाप्त कर सकते हैं | आज जब युग इंटरनेट का है ओर लोग अनेको मुददों को इंटरनेट के माध्यम से उठाकर जन –जन को जागरूक कर रहे हैं, तब हम भी अपनी प्रिय म्रात्रभाषा हिन्दी को ब्लॉगिंग के माध्यम से जागरूकता फैलाकर मजबूत क्यो नहीं कर सकते, वह भी ऐसे समय में, जब इसकी सबसे अधिक आवश्यकता हो?

अब बात यदि शुरूआत करने की है, तो हम सब भारतीय हैं ओर प्रत्येक भारतीय का ये दायित्व है कि वह जैसे भी हो सके अपनी म्रात्रभाषा को मजबूती प्रदान का प्रयत्न करे ओर इसके लिए इंटरनेट पर मौजूद प्रत्येक आधुनिक भारतीय अपने स्तर पर ब्लॉगिंग के लिए हिन्दी का प्रयोग कर सकता है और पिछड़ेपन की शिकार इस भाषा को न केवल भारत में बल्कि विश्व में भी नई ऊंचाइयों तक पहुचा सकता है | आज तकनीक ने हमें अनेक उपकरण दिये हैं जिनका प्रयोग करके हम आसानी से हिन्दी ब्लॉगिंग कर सकते हैं | इसी तकनीक का लाभ उठाते हुए अपनी म्रात्रभाषा को मजबूत करने का प्रयास करे | भले ही थोड़ा समय लगेगा लेकिन जब प्रत्येक भारतीय ऐसा करेगा तो हमारी हिन्दी भाषा आसानी से मजबूती की ओर अग्रसर होते हुये इंटरनेट पर अपनी पकड़ बनाएगी | यदि प्रयास पूरी ईमानदारी के साथ और निरन्तर होगा तो मात्र कुछ समाचार-पत्रों की वेबसाइटों  पर नज़र आने वाली हिन्दी को बाजारीकरण से छुटकारा मिलेगा ओर यह म्रात्र हिन्दी दिवस पर याद करने लायक भाषा न होकर प्रत्येक दिवस को हिन्दी दिवस बनाने वाली भाषा बनकर सामने आयेगी | जब भारत में प्रत्येक दिवस, हिन्दी दिवस होगा ओर लोग अपना शत-प्रतिशत कार्य हिन्दी में करेंगे तो हिन्दी का प्रयोग करने वाला कोई भी भारतीय हीनभावना से ग्रसित नहीं होगा ओर हिन्दी प्रत्येक भारतीय के दिल पर राज करने वाली भाषा होगी | ऐसा होने पर विदेशो में अप्रवासी भारतीयो के माध्यम से हिन्दी मजबूत होगी | इस प्रकार, एक दिन हिन्दी विश्व की अग्रणी भाषा होगी| अग्रणी भाषा के रूप में उभरकर आने से और  विदेशो में भी प्रयोग करने से हिन्दी का मान बढ़ेगा।

तब फिर चाहे स्कूल–कॉलेज की पुस्तके हो या नेता जी का भाषण हो, विज्ञापन हो या कम्प्यूटर शिक्षा, चारो ओर हिन्दी का साम्राज्य होगा और इसकी नीव होगी – हिन्दी ब्लॉगिग।

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply