Menu
blogid : 14921 postid : 3

सीरियल्स

मेरी कलम से
मेरी कलम से
  • 71 Posts
  • 20 Comments

बदलता समाज, बदलते रिश्ते, खून खराबा, लड़कियो पर अत्यचार ये अब इतना क्यो बढ़ गया है क्योकि जो देखेंगे वो ही तो सीखगे ओर वो ही तो करेगे, ओर नतीजा आपके सामने, हमारी एलेक्ट्रोनिक मीडिया जैसे टीवी आदि पर दिखाये जाने वाले प्रोग्राम मे हमेशा घर तोड़ने के नुसके सिखाये जाते है, जिन्हे लोग अपने घरो मे इस्तेमाल करते है ओर नतीजन घर टूटते है, मूवी, गाने मे जिस तरह की वर्डिंग ओर पहरावा दिखाया जाता है वो सब एक सभ्य समाज के लिए उचित परतीत नहीं होता, पहले भी मूवी, गाने आते थे तो वो अब क्यो नहीं पहले भी लोग टीवी देखते थे जितने भी प्राइवेट चेनल अगर पॉज़िटिव थिंकिंग सीरियल्स दिखाये तो समाज पर आछा असर पड़ेगा ओर उनकी टीआरपी भी बदेगी लेकिन टीवी अपनी टीआरपी बड़ाने के लिए सीरियल्स, मूवी मे कुछ भी दिखाने से परहेज नहीं करते
जिसका नतीजा आज हमारे समाज मे हर तरफ लड़ाई, दगे , अत्यचार आदि के रूप मे हमारे सामने है
अंजलि रूहेला
अंबेहटा पीर
डाइरेक्टर:- देव भूमि आईटी पॉलिटैक्निक

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply