Menu
blogid : 28108 postid : 19

Coronavirus से स्वस्थ हुए मरीजों में 5 महीने तक शरीर में रहती है एंटीबॉडी

Akshansh Kulshreshtha

  • 4 Posts
  • 1 Comment

हाल ही में Journal of Science में एक Research paper  प्रकाशित किया गया जिसके अनुसार शरीर में बनने वाली एंटीबॉडी की प्रतिक्रिया का संबंध शरीर द्वारा सारस सी ओ वी -2 वायरस को निष्प्रभावी करने से हैं जिसकी वजह से संक्रमण होता है, वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि कोरोनावायरस से जूझने के बाद स्वस्थ हुए मरीजों में कम से कम 5 महीनों तक शरीर में एंटीबॉडी बनी रहती है।

अमेरिका की माउंट सिनाई हॉस्पिटल के कार्यरत और जर्नल ऑफ साइंस में प्रकाशित अनुसंधान पत्र के वरिष्ठ लेखक florian kremer ने कहां खाना की कुछ खबरें आई थी कि वायरस से संक्रमित की प्रतिक्रिया में विकसित एंटीबॉडी जल्द समाप्त हो रही है लेकिन हमने अपने अध्ययन और जानकारी से इसका उल्टा ही पता लगाया है उन्होंने कहा कि 90% मरीजों में महीनों तक एंटीबॉडी शरीर में बनी रहती हैं।

Google Photos

उन्होंने कहा कि अपने अध्ययन में हमने यह पाया है कि हल्के या मध्यम दर्जे के लक्षण वाले कोरोना मरीजों में बनी एंटीबॉडी महीनों तक वायरस को निष्प्रभावी रखने में मजबूती से काम करती हैं जिसके बाद हम इस निष्कर्ष तक पहुंचने के लिए वैज्ञानिकों ने संक्रमण से ठीक हुए लोगों की enzyme linked immunosuppressant

नामक एंटीबॉडी की जांच की जिससे हम को पता चल सके की कोशिका पर वायरस का आक्रमण होने पर बनने वाले इस प्रोटीन का स्तर आखिर क्या है?

 

क्या होती है antibody ?

Image source -lineage

अनुसाधन कर्ताओं की माने तो जब वायरस कोशिकाओं पहली बार संक्रमित करता है तब प्रतिरक्षा तंत्र वायरस से लड़ने के लिए कुछ देर तक जीवित रहने वाली प्लाज्मा कोशिकाओं को तैनात करता है जो एंटीबॉडी उत्पन्न करती है उन्होंने कहा कि संक्रमण होने से 14 दिन बाद तक रक्त की जांच में यह एंटीबॉडी सामने आ जाती है।

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *