Menu
blogid : 25176 postid : 1334840

कसक-बेनाम कोहड़ा बाज़ारी

बेनाम कोहड़ाबाज़ारी उवाच

  • 175 Posts
  • 2 Comments

ना ऐब तुझमे ना ऐब मुझमे, “बेनाम” कसक बस ये थी,
ख्वाहिशें तेरी कुछ ज्यादा, व हैसियत मेरी कुछ कम थी।

बेनाम कोहड़ा बाज़ारी
उर्फ़
अजय अमिताभ सुमन

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *