Menu
blogid : 14295 postid : 1360214

हैं आँखे अभ्यस्त तिमिर की और उजाले गड़ते हैं.

Achyutam keshvam

  • 105 Posts
  • 250 Comments

हैं आँखे अभ्यस्त तिमिर की और उजाले गड़ते हैं.

उल्लू के इंगित पर तोते  दोष सूर्य पर मढ़ते हैं.

बोटी एक प्रलोभन वाली फेंक सियासत देती है .

हम कुत्तों जैसे आपस में लड़ते और झगड़ते हैं.

यूँ तो है आजाद कलम बस पेशा करना सीख गयी.

चारण विरुदावलियों को ही कविता कहकर पढ़ते हैं.

लेखपाल जी दस फीसद में रफा-दफा सब कर देते.

पर कानूगो बीस फीसदी लेकर कलम रगड़ते हैं.

राशन की दुकान के मालिक मुखिया जी के साले हैं.

बी.पी.एल.वाले जीजाजी बोल सीढीयाँ चढ़ते हैं.

डी.एल.बीमा हेलमेट परमिट हो न हो फ़िक्र किसे.

धनतेरस है निकट दरोगा गाड़ी दौड़ पकड़ते हैं.

जिन शाखों पर फूल खिले हैं झुकी-झुकी सकुचाई हैं.

किन्तु कटीले झाड़ महल्ले भर में फिरे अकड़ते हैं.

रामरहीमों राधे माओं की रंगीन मिजाजी से .

रंग तिरंगे के तीनों बदरंग दिखाई देते हैं.

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply