Menu
blogid : 14295 postid : 1311778

सपने का क्या है टूट गया . सपना तो फिर भी सपना है

Achyutam keshvam

Achyutam keshvam

  • 105 Posts
  • 250 Comments

सपने का क्या है टूट गया .
सपना तो फिर भी सपना है .

समय दिखाता रहा अँगूठे ,
राम गुसइंयाँ तुम भी झूँठे ,
जब हों पाप दया पर भारी .
फिर तो नाम वृथा जपना है .
सपने का क्या है टूट गया .
सपना तो फिर भी सपना है .1.

तज उपहास उपेक्षा दूजी .
मेरे पास रही क्या पूँजी .
कैसे कहूँ अरी ओरों को ,
अपना कौन हुआ अपना है .
सपने का क्या है टूट गया .
सपना तो फिर भी सपना है .२.

सोम-सुधा जगभर में बाँटी .
धरती की जंजीरें काटीं .
फिर भी रहा अकिंचन मैं ही ,
कँपना कभी कभी तपना है.
सपने का क्या है टूट गया .
सपना तो फिर भी सपना है .3.

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply