Menu
blogid : 14295 postid : 1319626

एक खराब कविता

Achyutam keshvam

  • 105 Posts
  • 250 Comments

हरी डाल के खग हर उगते
रवि को करें प्रणाम .
फुल्ली ठलुआ उठाधरी को
छोड़ न दूजा काम .
तमगे चहिये माला चहिये
लगे एक धुनधुनियाँ में
कैसे-कैसे लोग बसे हैं दुनियाँ में .१.

चातक चन्द्र लजाएँ एसी
प्रीती जताएँ भारी .
छण में कोप करें चौराहे
पर ही कर दें ख्वारी .
इनकी प्रीती बसी है उनके
स्वारथ की झुनझुनियाँ में .
कैसे-कैसे लोग बसे हैं दुनियाँ में.२.

रंग पूर्णत:गिरगिटिया है
गैंडे जैसी खाल .
सूअर केश धरे नयनन में
खूब बजाएं गाल .
कमी हजार निकालें पल में ,
बड़े-बड़े गुन-गुनियाँ में .
कैसे-कैसे लोग बसे हैं दुनियाँ में.३.

उज्ज्वलतम आवरण छिपाए
जिनकी रंगत काली .
आगे करें बढ़ाई लेकिन ,
पीछे देंवे गाली .
कोई मरे चाहे तो जीवे ,
ये अपनी धुन-धुनियाँ में .
कैसे-कैसे लोग बसे हैं दुनियाँ में.४.

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply