Menu
blogid : 2297 postid : 7

परछाई

zindggi

  • 9 Posts
  • 33 Comments
हालात से

 

गुज़र कर

 

चटकती रूह

 

कडवी रही बहुत……

 

 

 

जिस्म को ज़ी

 

 भर के सहलाती

 

रही चाँद की मीठी

 

सी परछाई….
—–आंच——

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *