मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

बगहा। मधुबनी, राम जन्मभूमि मंदिर निर्माण को लेकर श्री जानकी जन्मभूमि पुनौरा धाम सीतामढ़ी जनकपुर से दो संत निकले हैं। पैदल यात्री दोनों संत गुरुवार की शाम बांसी पहुंचे । संत अखिलेश दास और पिकु दास का यहां भव्य स्वागत किया गया। ये दोनों बांसी की धरती को प्रणाम कर भाव विभोर हुए। अखिलेश दास ने बताया कि बड़े सौभाग्य की बात है कि माता जानकी के विवाह के समय वापस लौटते समय जहां श्री राम ने रात्रि विश्राम किया था। उस पावन धरती को देखने का हमें मौका मिला ।हम लोग बांसी की इस धरती पर कदम रखते ही अपने आप को धन्य समझने लगे। जनकपुर से मिट्टी और जल लेकर बांसी नदी में स्नान के साथ ही पदयात्रा करते हुए अयोध्या जाएंगे और वहां रामलला के मंदिर के निर्माण में जनकपुर की मिट्टी और जल को वहां के भक्तों एवं साधु संतों को प्रदान करेंगे। उन्होंने बताया कि वे लोग 25 तारीख को अयोध्या में होने वाले भक्तों एवं साधु संतो के समागम में भाग लेंगे। वही फेकू दास ने बताया कि श्री राम मंदिर का निर्माण कार्य शीघ्र हो इसके लिए हम लोग मां जानकी के जन्म भूमि से जल और मिट्टी लेकर अयोध्या धाम के लिए पद यात्रा कर रहे हैं।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप