नरकटियागंज । प्रसव पीड़ित महिलाओं के साथ महिला स्वास्थ्य कर्मियों द्वारा लापरवाही बरतने और मामूली बात में रेफर किए जाने को लेकर परिजनों ने रविवार की शाम हंगामा किया और कहा कि गरीब मरीजों के साथ यहां महिला स्वास्थ्य कर्मी शोषण कर रही हैं। आक्रोश के कारण काफी देर तक अस्पताल में हंगामा की स्थिति बनी रही। अनुमंडलीय अस्पताल पहुंचे मरीज के परिजनों ने इलाज में लपारवाही का आरोप लगाते हुए कहा कि प्रसव वार्ड में मरीजों को बेहतर सुविधा नहीं दी जा रही है। लौकरिया गांव निवासी परिजनों में शामिल ज्योति देवी, बलिस्टर प्रसाद सोनी, आभा देवी आदि ने बताया कि वे लोग अपने एक मरीज को अस्पताल में रविवार की सुबह पहुंचे। प्रसव पीड़ा होने पर इलाज के लिए भर्ती कराए। उस महिला को तीसरे बच्चे की डिलेवरी के लिए अस्पताल लाए थे। सब कुछ सामान्य था। फिर भी डयूटी पर तैनात तीन नए एएनएम द्वारा महिला पर ध्यान नहीं दिया गया और उसे तड़पने के लिए छोड़ दिया गया। यहां तक की संध्या तक दो मरीजों को रेफर कर दिया गया तथा चार से पांच मरीज अस्पताल में पर्ची छोड़ कर चले गए। उन्होंने जब एएनएम को प्रसव के लिए कहा तो अस्पताल में कुव्यवस्था का हवाला देकर बेतिया रेफर कर दिया गया। कर्मियों द्वारा बाहर इलाज कराने के लिए कहा गया। परिजनों ने बताया कि वे लोग काफी गरीब परिवार से हैं। सरकारी अस्पताल में सुविधा नहीं मिलने से उन्हें काफी परेशानी उत्पन्न हुई है। परिजनों ने बताया कि दिन भर में लगभग कई मरीज निजी क्लीनिक में यहां से चले गए हैं। बावजूद इसके एएनएम द्वारा लापरवाही बरती जा रही है।

----------------------------------------

कोट

परिजनों का कहना था शीघ्र ही प्रसव करा दिया जाए। लेकिन समय पर नार्मल प्रसव कराने को जब एएनएम द्वारा कहा गया तो परिजन हंगामा शुरू कर दिए। हालांकि परिजनों को समझा-बुझाकर हंगामा शांत करा दिया गया है। इसकी जानकारी वरीय अधिकारियों को दी जाएगी। डॉ. आइ हक

चिकित्सा पदाधिकारी

नरकटियागंज

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस