पश्चिम चंपारण [जेएनएन]। जंगल में बाघ बोर हो गया तो मूड चेंज करने बस्‍ती की ओर निकल पड़ा। बाघ के इस एडवेंचर टूर से लोगों की जान आफत में पड़ गई। घटना बिहार के पश्चिम चंपारण स्थित वाल्मीकि व्याघ्र परियोजना के वन क्षेत्र के पास बगहा-वाल्मीकिनगर मुख्य मार्ग पर धोबहां चमैनिया गांव के पास की है।

बीच सड़क पर घंटों खड़ा रहा बाघ

मिली जानकारी के अनुसार बगहा-वाल्मीकिनगर मुख्य मार्ग पर धोबहां चमैनिया गांव के पास एक बाघ सड़क पर आ गया। वह घंटों तक सड़क के मध्य में खड़ा रहा। इस दौरान वाहनों का परिचालन ठप हो गया। सड़क के दोनों तरफ वाहनों की लंबी कतार लग गई। बाद में एक बस की तेज रोशनी देख बाघ जंगल की ओर निकल गया। इस दौरान लोगों की जान सांसत में रही।

तेज लाइट से डरकर जंगल में भागा

वहां से गुजर रहे वाल्मीकिनगर निवासी शिक्षक चंदन कुमार ने बताया कि बगहा से वे वाल्मीकिनगर बाइक से जा रहे थे। अचानक बाइक की रोशनी में बाघ दिखा। बाघ ने दहाड़ मारकर बाइक का पीछा किया। इसी बीच सामने से एक टूरिस्ट बस आ गई। बस की तेज लाइट देख बाघ जंगल की ओर निकल गया। तब जाकर जान बची।  इसके बाद वन विभाग को सूचना दी गई।

बाघ के पदचिह्नों की खोज जारी

वाल्मीकि व्याघ्र परियोजना के सहायक वन संरक्षक आर के सिन्हा ने बताया कि उक्त क्षेत्र में वन कर्मियों की चौकसी बढ़ा दी गई है। बाघ के पदचिह्नों की खोज की जा रही है।

Posted By: Amit Alok