बगहा। एक जुलाई से सिंगल यूज प्लास्टिक पर पूरी तरह प्रतिबंध है। इसके लिए कई दिनों से दुकानदारों के साथ आम लोगों को भी जागरूक किया जा रहा था। जागरूकता की मियाद 30 जून को पूरी हो गई। एक जुलाई से इसके इस्तेमाल और बेचने वालों के खिलाफ कार्रवाई होनी थी, लेकिन नगर परिषद के अधिकारी दफ्तर में दुबके रहे। नतीजा बाजार में सिंगल यूज प्लास्टिक का धड़ल्ले से उपयोग होता रहा। दुकानदार इसमें सामान बेचते नजर आए। खरीदारों को भी झोला की जरूरत महसूस नहीं हुई। प्रतिबंध का कहीं असर नहीं दिखा।

प्रतिबंधित प्लास्टिक के उपयोग पर जुर्माने का प्रविधान है। लोगों और दुकानदारों को जानकारी भी दी गई कि सिंगल यूज प्लास्टि के इस्तेमाल पर पहली बार पकड़े जाने पर 1500, दूसरी बार 3500 और तीसरी बार 5000 रुपये का जुर्माना लगाया जाएगा। बावजूद इसके शुक्रवार को प्रतिबंध के पहले दिन नगर के डीएम एकेडमी, अनुमंडलीय अस्पताल, सिनेमा चौक, गांधीनगर चौक, शास्त्रीनगर चौक, रेलवे स्टेशन चौक, जगहों पर लोग पालीथिन में सामान खरीदते और बेचते नजर आए। नप द्वारा गठित टीम भी कहीं सक्रिय नजर नहीं आई।

कांग्रेस किसान प्रकोष्ठ के जिलाध्यक्ष भाई उत्कर्ष, व्यवसायी अजय गुप्ता आदि ने सिंगल यूज प्लास्टिक पर प्रतिबंध का स्वागत किया। दरअसल लोग प्लास्टिक का उपयोग करने के बाद उसे नालियों में फेंक देते हैं। इससे नालियां जाम हो जाती हैं। इतना ही नहीं कूड़े की ढेर में डालने के बाद पशु इसे अपना आहार बना लेते हैं, और बीमार पड़ जाते हैं।खेत की उर्वरा शक्ति कम हो रही है। इसे देखते हुए सरकार ने इस पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगा दिया है। इस संबंध में ईओ डा. अमित कुमार ने बताया कि सिगल यूज प्लास्टिक का इस्तेमाल करने पर जुर्माना लगाया जाएगा। टीम जगह-जगह निरीक्षण कर रही है। प्रतिबंध को पूरी तरह से कारगर बनाया जाएगा।

Edited By: Jagran