पश्चिमी चंपारण [जेएनएन]। बिहार के किसान भगवान भरोसे हैं। वे गन्‍ना उपजाकर कारखानों में देते हैं ताकि उनकी मेहनत और उपज की उचित कीमत मिल सके। लेकिन महीनों तक उन्‍हें भुगतान नहीं किया जाता है। वे इस उम्‍मीद में रहते हैं कि कब सरकार उनके बकाये पैसे का भुगतान करे। लेकिन अब सरकार के मंत्री भी उन्‍हें भगवान भरोसे रहने को बोल रहे हैं।

बिहार के पश्चिमी चंपारण जिले में आयोजित थारू कल्याण महासंघ के अधिवेशन में सूबे के गन्‍ना मंत्री खुर्शीद आलम उर्फ फिरोज अहमद ने कहा कि भगवान ने चाहा तो गन्‍ना मूल्‍य का भुगतान दो माह में हो जायेगा। गन्ना मंत्री के इस विवादित बयान पर किसान नाराज हो गए और हंगामा करने लगे। वीआईपी दीर्घा में बैठे कुछ लोग भी इस मुद्दे पर बोलने लगे, लेकिन अधिवेशन की व्यवस्था में लगे लोगों ने उन्हें फौरन शांत करा दिया।

वहीं, इस मौके पर बाल्मीकिनगर के विधायक धीरेंद्र प्रताप सिंह ने गन्ना भुगतान की मांग करते हुए कहा कि सरकार और मुख्यमंत्री इसके लिए गंभीर है।

बता दें कि यह पहली बार नहीं है जब खुर्शीद अहमद ने इस तरह का विवादित बयान दिया है। इससे पहले भी वे एक बार जय श्री राम का नारा लगाने को लेकर विवाद में आये थे। मामला बढ़ने पर उन्‍हें माफी तक मांगनी पड़ी थी। खुर्शीद आलम ने नारा लगाने पर मुस्लिम समुदाय द्वारा आलोचना झेलने और अपने खिलाफ एक फतवा जारी होने के बाद माफी मांगी थी।

Posted By: Ravi Ranjan

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस