बेतिया। जिले के लोगों को कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाने के लिए जिला प्रशासन सभी तरह की व्यवस्था को सु²ढ़ करने में लगातार जुटा है। लोगों के बीच से मास्क की कमी की मिल रही शिकायत पर डीएम डॉ. कुंदन कुमार ने जीविका के माध्यम से मास्क बनवाने का निर्णय लिया है। डीएम ने लॉक डाउन के इस वक्त में जीविका को रोजगार मुहैया कराने के साथ-साथ सस्ते दर पर जिले के लोगों को मास्क उपलब्ध कराने की पहल की है। उन्होंने डीपीएम जीविका अविनाश कुमार को यह निर्देश दिया है कि जीविका दीदियों के माध्यम से मास्क बनवाना शुरू करें। ताकि लोगों के बीच मास्क की उपलब्धता सुनिश्चित कराई जाए। साथ ही स्वास्थ्य विभाग को भी जीविका दीदियों के द्वारा बनाए मास्क को खरीदने का आदेश दिया है।

-----------------------

स्वास्थ्य विभाग ने दिया मास्क का आर्डर

डीएम के आदेश के आलोक में स्वास्थ्य विभाग की ओर से एक लाख मास्क का आर्डर जीविका को दिया गया है। डीपीएम ने बताया कि दस हजार मास्क तैयार हो चुका है। स्वास्थ्य विभाग को इसकी आपूíत की जा रही है। शेष मास्क का निर्माण कार्य चल रहा है। अभी बेतिया, मझौलिया एवं गौनाहा प्रखंड की जीविका दीदी मास्क का निर्माण कर रहीं हैं। लॉक डाउन के इस दौर में खुद की सुरक्षा करते हुए कोरोना को हराने के लिए जारी जंग में उल्लेखनीय योगदान कर रहीं हैं।

----------------------------

इनसेट

दस हजार मास्क की डिलीवरी आज

डीएम के आदेश के आलोक में जिला स्वास्थ समिति की ओर से एक लाख मास्क का आर्डर किया गया है। जीविका के माध्यम से मास्क तैयार किया जा रहा है। जीविका द्वारा फिलहाल करीब दस हजार मास्क जिला स्वास्थ समिति को उपलब्ध कराया जाना है। इसका वितरण पखंड के सभी स्वास्थ्य केंद्रों में किया जाएगा। ताकि वहां इलाज कर रहे चिकित्सा एवं स्वास्थ्य र्किमयों को कोरोना वायरस से सुरक्षा दी जा सके। सिविल सर्जन डॉ. अरुण कुमार सिन्हा ने बताया कि मास्क सामान्य लोगों के लिए जरूरी नहीं है। मरीज एवं उनके इलाज में लगे चिकित्सक और स्वास्थ्य र्किमयों को इसकी आवश्यकता है। जिला स्वास्थ समिति द्वारा एक लाख मास्क का आर्डर किया गया है। जीविका के माध्यम से मास्क तैयार किया जा रहा है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस