बगहा। विद्युत विभाग बिजली बिल के वसूली के लिए लगातार अभियान चलाती है। आम उपभोक्ताओं का लाइट तीन महीने से अधिक के बकाए बिल के कारण काट दी जाती है। पर, क्षेत्र में स्थित सरकारी विभागों के कार्यालयों पर ही विद्युत विभाग का लाखों रुपये का बकाया चला आ रहा है। जिसको जमा करने में आम लोगों की अपेक्षा विभाग ही फिसड्डी साबित हो रहे हैं। इसमें सबसे अधिक बकाया राशि नगर परिषद पर ही एक करोड़ से अधिक है। जबकि अन्य विभागों पर लाखों रुपये विपत्र मद के बकाया हैं। हालांकि ऐसा नहीं है कि विभाग की तरफ से इनको रिमाइंडर नहीं भेजा जाता है। पर, बावजूद स्थिति बहुत अच्छी नहीं है। इन बड़े बकाएदारों में पीएचसी के साथ थाना व सिचाई विभाग भी शामिल हैं। विभाग के सूत्रों की मानें तो, सभी को विपत्र भी भेजे गए हैं। पर, अभी तक कुछ विभाग को छोड़कर दूसरे ने इसको लेकर तत्परता नहीं दिखाई है। कुछ विभागों का बकाया पिछले कई सालों से चला आ रहा है। हालांकि इसमें से कुछ लोगों का पैसा जमा भी होता है। उल्लेखनीय है कि अगर यह करोड़ों की राशि विभाग को समय से मिल जाती तो, इससे काफी फायदा होता। साथ हीं राजस्व में इजाफा भी होता। इन विभागों पर है इस तरह बकाया राशि बता दें कि स्थानीय प्रखंड के अलावा लौरिया का क्षेत्र भी नगर स्थित विद्युत विभाग के अधीन है। इन दोनों जगहों के बकाया राशि को जोड़ा जाए तो, यह करोड़ों का होता है। जिन विभागों पर बकाया है। उसमें रामनगर के साथ लौरिया के भी सरकारी कार्यालय के बकाया राशि को जोड़ा गया है। जिसमें :

प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर ----12 लाख 50 हजार

थाना----पांच लाख 30 हजार

नगर परिषद रामनगर--- एक करोड़ 79 लाख

सरकारी विद्यालय---11 लाख 90 हजार

सिचाई विभाग---21 लाख 13 हजार

लोक स्वासथ्य अभियंत्रण विभाग---24 लाख 91 हजार

हर घर नल-जल योजना--- 18 लाख तीन हजार बयान : बकाया राशि की सूचना संबंधित विभागों को दे दी गई है। इनमें से कुछ विभाग की तरफ से राशि जमा करने की बात कही गई है। अन्य विभागों से भी बातचीत चल रही है।

राजीव रंजन, सहायक अभियंता विद्युत विभाग

Edited By: Jagran