बगहा। हरनाटांड़ में सैरात की जमीन पर अतिक्रमण पर गंभीर अधिकारी सोमवार को अतिक्रमण हटाने के लिए बाजार पहुंचे। सैरात की 97 डिसमिल जमीन में से 66 डिसमिल पर बाजार है बाकि की जमीन पर स्थानीय लोगों का कब्जा है। इस मामले में बगहा दो सीओ राकेश कुमार ने अतिक्रमण वाद में सुनवाई करते हुए कुल 17 अतिक्रमणकारियों को नोटिस जारी किया। नोटिस के बाद भी अतिक्रमणकारियों ने अपना साक्ष्य प्रस्तुत नहीं किया। जिसके बाद गंभीर एसडीएम शेखर आनंद ने बलपूर्वक अतिक्रमण हटाने का आदेश दिया। आदेश के आलोक में सोमवार को एएसडीएम सरफराज नवाज और सीओ राकेश कुमार पुलिस बल व जेसीबी के साथ हरनाटांड़ पहुंचे। अधिकारियों के पहुंचते ही बाजार में हड़कंप की स्थिति उत्पन्न हो गई। आननफानन में चिन्हित अतिक्रमणकारी पहुंचे। इनमें दो ने अपना साक्ष्य प्रस्तुत किया। एएसडीएम ने सभी अतिक्रमणकारियों को 30 जून तक की मोहलत दी। कहा कि यदि 30 जून तक स्वत: अतिक्रमण नहीं हटाया गया तो फिर एक जून को अधिकारी बलपूर्वक अतिक्रमण हटाएंगे। साथ ही इसमें आने वाला खर्च भी अतिक्रमणकारियेां से वसूल किया जाएगा। एएसडीएम ने कहा कि वैसे परिवार जो भूमिहीन हैं, उन्हें अंचल अलग से जमीन उपलब्ध कराएगा। दूसरी ओर, अतिक्रमण हटाने की सूचना पर पूरे दिन अफरातफरी की स्थिति बनी रही। सरकारी जमीन पर अतिक्रमण का आरोप भितहा। खैरवा पंचायत के बलुही में मालिक गैरमजरूआ भूमि पर दर्जनों लोगों ने अतिक्रमण कर सड़क अवरुद्ध कर दिया है। बलुही निवासी शाहिद मियां, रविन्द्र यादव, इसमहम्मद मियां ,महेश यादव, नूर आलम अंसारी , राजेश कुमार आदि ने गत पांच जून को इस आशय से जुड़ा आवेदन सौंपा था। जिसमें स्थानीय ग्रामीण जलील मियां, इसहाक मियां, दुखी मियां व रमतुल्लाह मियां पर जबरन कब्जे का आरोप लगाया गया था। आवेदन पर संज्ञान लेते हुए स्थानीय अंचल प्रशासन द्वारा घर निर्माण पर रोक लगाई गई थी। हालांकि बाद में निर्माण कराया गया। सीओ शिवेंद्र कुमार ने कहा कि जांच कर दोषियों पर कार्रवाई होगी।

Edited By: Jagran