बगहा। सरकार द्वारा ट्रैक्टर टॉली पर व्यवसायिक रजिस्ट्रेशन एवं फिटनेस के विरोध में सोमवार को अनुमंडल के समक्ष किसानों ने एक दिवसीय धरना प्रदर्शन किया। इसके माध्यम से किसानों ने सरकार को यह बताया है कि चंपारण क्षेत्र में खेती के 80 फीसद भूभाग पर गन्ना की खेती की जाती है। जिसकी आपूर्ति एवं भुगतान पर ही उनकी सारी अर्थव्यवस्था निर्भर करती है। आधुनिक तकनीकी से खेती करने के चक्कर में किसानों का कोई भी काम बिना ट्रैक्टर संभव नहीं है। ऐसे में ट्रैक्टर पर ही व्यवसायिक रजिस्ट्रेशन लगाना किसान हित में उचित नहीं है। उसमें भी उसके साथ ट्रॉली को भी शामिल कर लिया गया है। किसानों का कहना है कि खेती कार्य के बाद उनका ट्रैक्टर दरवाजे पर खड़ा ही रहता है। उसका एक मात्र काम खेत से उपज को घर तक लाना एवं गन्ना लेकर चीनी मिल तक जाना। ऐसे में ट्रैक्टर पर यह टैक्स उचित नहीं है। करीब पांच सौ की संख्या में उपस्थित किसानों ने इसका भरपूर विरोध किया है।

प्रदर्शन में उपस्थित तमाम किसानों ने सरकार विरोधी नारे भी लगाए। अध्यक्षता वरीय किसान वैरिस्टर मिश्र व संचालन किसान नेता छोटे श्रीवास्तव ने किया। क्षेत्र के प्रगतिशिल किसान चुन्नु पांडेय, मुखिया रामविलास सिंह, छविलाल शर्मा, लालबाबु यादव, चंद्रभान काजी, इश्वर खतईत, संदीप शर्मा, चंद्रजीत राय, अमरनाथ प्रजापति, कंचन पाल आदि ने संबोधित किया। अपनी मांगों से संबंधित एक ज्ञापन एसडीएम विशाल राज को देते हुए उसकी प्रति मुख्यमंत्री, जिला पदाधिकारी व परिवहन मंत्री को ईमेल से दिया गया।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप