बेतिया। इंटर विज्ञान की परीक्षा में भौतिक विज्ञान का महत्व सबसे अधिक है। इस संकाय में पीसीएम या पीसीबी समूह के छात्र क्यों न हो, सभी के लिए मुख्य विषय में भौतिकी विज्ञान शामिल है। दोनों ही समूह के लिए यह विषय अत्यंत ही महत्वपूर्ण है। इस विषय की तैयारी के लिए योजनाबद्ध तरीके से पठन-पाठन करना चाहिए। इंटर स्तर पर मेडिकल तथा इंजीनियरिग में जाने पर भी इस विषय का उतना ही महत्व रहेगा। यही कारण है कि भौतिकी विज्ञान को समाज का दर्पण भी कहा गया है। उक्त बातें इलेक्ट्रो फिजिक्स के भौतिक विज्ञान के शिक्षक भारत भूषण ने कहीं। उन्होंने परीक्षा से संबंधित टिप्स देते हुए कहा कि इस विषय के दो भाग होते हैं, जिसमें 70 अंक का सैद्धांतिक तथा 30 अंक का प्रायोगिक परीक्षा होता है। सैद्धांतिक सेक्सन को भी दो भागों में बांटा गया है, जिसमें 35 अंक का वस्तुनिष्ठ तथा 35 अंक का सब्जेक्टिव होगा। सब्जेक्टिव को भी दो सेक्सन में बांट कर लघुउत्तरीय प्रश्न एवं दीर्घउत्तरीय प्रश्न का जवाब देना है। लघुउत्तरीय में 15 में से 10 तथा दीर्घउत्तरीय में 06 में से 03 प्रश्नों का उत्तर लिखना आवश्यक है। पाठ्यक्रम के अनुसार इसे 10 इकाई एवं 25 अध्यायों में बांटा गया है। विगत वर्षों के प्रश्न प्रारूप से स्पष्ट है कि इलेक्ट्रोनिक्स, करंट इलेक्ट्रिसिटी, ऑप्टिकस और मॉडर्न फिजिक्स से अधिकांश प्रश्न पूछे जाते हैं। वस्तुनिष्ठ प्रश्नों के लिए लगातार उसका अभ्यास आवश्यक है। सब्जेक्टिव प्रश्नों के उत्तर के लिए प्रैक्टिस सेट का अभ्यास निश्चित रूप से करना चाहिए। यदि योजनाबद्ध तरीके से सभी प्रकार के प्रश्नों की तैयारी करते हैं तो निश्चित रूप से अच्छी सफलता मिलेगी।

--------------------------------------------------

भौतिकी में इन चैप्टर पर रखें विशेष ध्यान

इलेक्ट्रोस्टेटिक से 8 अंक, करंट इलेक्ट्रिसिटी से 7 अंक, मैगनेटिक इफेक्ट ऑर करंट तथा मैगनेटिज्म से 8 अंक, इलेक्ट्रो मैगनेटिक इंडक्सन और अल्टरनेटिव करंट से 8 अंक, इलेक्ट्रोमैगनेटिक वेब से तीन अंक, ऑप्टिक्स से 14 अंक, ड्बेल नेजर ऑफ मेटर 4 अंक, एटम एंड इट्स न्यूक्लीआई से 6 अंक, इलेक्ट्रानिक्स डिवाइस 7 अंक, कॉम्यूनिकेशन सिस्टम से 5 अंक के प्रश्न पूछे जाते हैं।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस