वैशाली। सदर थाना क्षेत्र के पानापुर लंगा के गोदाम पोखर निवासी 40 वर्षीय गैराज मिस्त्री की हृदय गति रुकने से मौत के बाद ग्रामीणों ने बिजली विभाग के एक कर्मी को इसका जिम्मेवार ठहराते हुए सड़क जाम कर दिया। हाजीपुर-महुआ सड़क में रंगीला चौक के समीप सड़क जाम कर रहे ग्रामीण आरोप लगा रहे थे कि बिजली विभाग के एक कर्मी को बकाया बिल जमा करने के लिए राशि दी थी, लेकिन उसे जमा नहीं कर हड़प लिया गया। विभागीय टीम की छापेमारी में इसका खुलासा होने से मिस्त्री की हर्ट अटैक से मौत हो गई। घटना से आक्रोशित लोगों के सड़क जाम के कारण यहां घंटों यातायात अवरुद्ध हो गया। सड़क जाम की सूचना पर सदर थाने की पुलिस घटनास्थल पहुंची। इसके बाद मृतक के शव को पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल हाजीपुर भेज दिया। इसके बाद जाम हटाया गया और यातायात सामान्य हो सकी।

इस संबंध में मृत गैराज मिस्त्री वशिष्ठ शर्मा के स्वजनों ने सदर थाना में बिजली विभाग कर्मी के विरुद्ध घटना का आरोप लगाते हुए आवेदन दिया है। इस संबंध में सदर एसडीपीओ राघव दयाल ने बताया कि जांच के दौरान पाया गया है कि मृतक वशिष्ठ शर्मा शुभई चौक के समीप गैराज खोल रखे था। उसके लिए उसने विद्युत विभाग से कोई कनेक्शन नहीं लिया था। उन्होंने कहा कि हालांकि मृतक के स्वजनों की ओर से सदर थाने में आवेदन दिया गया है। मृतक का पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही कार्रवाई की जाएगी।

ज्ञात हो कि बुधवार की शाम हाजीपुर विद्युत आपूर्ति प्रशाखा भाग-1 के कनीय अभियंता अनिल कुमार राम एक टीम के साथ शुभई चौक के समीप दुकानों में छापेमारी की थी। इस दौरान वशिष्ठ शर्मा के गैरेज में विद्युत विभाग के यहां दी गई कनेक्शन के लिए कोई भी आवेदन नहीं दिखाई गई थी। इसके बाद सदर थाने में गैराज संचालक के विरुद्ध 33,142 रुपये का जुर्माना लगाते हुए प्राथमिकी दर्ज करने के लिए आवेदन दिया था। इसी बीच गैराज संचालक की मौत हो गई, जिसके लिए लोग बिजली विभाग को जिम्मेवार बता रहे हैं।

Edited By: Jagran