वैशाली। हाईकोर्ट के आदेश पर जिले में अवैध रूप से संचालित हो रहे पैथोलोजी लैब के खिलाफ मंगलवार को अभियान चलाया गया। इस अभियान के दौरान पहले ही दिन अवैध रूप से संचालित हो रहे 9 पैथोलोजी लैब को सील किया गया जबकि 3 लैब से शो-कॉज किया गया। जिले में इस अभियान को सफल बनाने के लिए तीन टीमें बनाई गई थीं। इसमें से दो टीमों ने पहले दिन हाजीपुर शहर में अभियान चलाया जबकि एक टीम ने ग्रामीण इलाके में अभियान चलाया। तीनों टीमों के साथ मजिस्ट्रेट एवं पर्याप्त संख्या में पुलिस बल को भी प्रतिनियुक्त किया गया था।

हाजीपुर की दोनों टीमों में डा. अनिल कुमार, डा. विजय कुमार, डा. आरके साहु एवं डा. एसपी ¨सह शामिल थे। पहले दिन टीम ने हाजीपुर में 3, महुआ में 3 तथा लालगंज में 3 लैबों को सील किया। जांच टीम में शामिल डाक्टर ने बताया कि यह अभियान अभी जारी रहेगा। हाजीपुर में एक साथ दो टीमों ने अलग-अलग क्षेत्रों में लैबों की जांच की। जांच टीम जिधर भी पहुंची उस क्षेत्र में हड़कंप मच गया। टीम को देखते ही आधा से अधिक लैब के शटर धड़ाधड़ गिर गए तथा संचालक उस स्थल से निकल गए। जो भी लैब खुली मिली उसकी जांच की गई तथा वहां से कई कागजात भी टीम ने एकत्रित किए हैं।

वहीं अवैध पैथोलॉजी लैब के विरुद्ध लालगंज में भी मंगलवार को जांच अभियान चलाया गया। अवैध रूप से चल रहे तीन पैथोलॉजी केंद्र को सील कर दिया गया। इस संबंध में रेफरल अस्पताल प्रभारी डॉ शशिभूषण प्रसाद ने बताया कि रेफरल अस्पताल के डॉक्टरों की टीम बनाकर अवैध पैथोलॉजी के खिलाफ सघन जांच अभियान चलाया गया। जिसमें रेफरल अस्पताल के नजदीक ही चल रहे तिरुपति जाँच घर, आर्य समाज स्कूल के पास चल रहे शिवशक्ति जांच घर और शुक्ला मार्केट के नजदीक चल रहे बनारस जांच घर को सील कर दिया गया। इस संबंध में रेफरल अस्पताल के प्रभारी ने कहा कि सील किये गए सभी जांच घरों के संचालक एवं विभाग को भी सूचित कर दिया गया है।

Posted By: Jagran