संवाद सूत्र, पटेढ़ी बेलसर (वैशाली) :

प्रखंड प्रमुख मुन्नी देवी ने शुक्रवार को निरीक्षण के क्रम में एसएफसी गोदाम में कई अनियमितताएं पकड़ी है। निरीक्षण के क्रम में प्रमुख ने पाया कि आम उपभोक्ताओं को जन वितरण प्रणाली के तहत मिलने वाली निर्धारित अनाज नही मिल पाता है। वही डीलर द्वारा उपभोक्ताओं को कम अनाज के लिए मजबूर किया जाता हैं। प्रमुख ने जब गोदाम का निरीक्षण किया तो इस दौरान भारी मात्रा में सड़ा हुआ अनाज जो डीलरों को देने के लिए स्टोर किया गया था। यह देख हतप्रभ रह गई। इसके अलावे भी कई अनियमितताएं पाई गई। प्रमुख ने अपने निरीक्षण के क्रम में जो गलत देखा और उसे अवैध मानकर सहायक गोदाम प्रबंधक शिल्पी गांधी से इन अनियमितताओं की जानकारी लेनी चाही तो वह बिफर उठी। प्रमुख को कम तौल, बगैर वजन पट्टे पर अनाज का बैग डीलर को डिलीवरी किये जाने, डीलरों द्वारा विरोध करने पर बदसलूकी करने, सड़ा हुआ अनाज डीलर को वितरण किये जाने सहित अन्य शिकायतें मिली थी। इस संबंध में जब प्रमुख ने एजीएम से उनकी बात जाननी चाही तो वे भड़क उठी और बोली कि यह सब पूछने की चीज नही हैं। जान लीजिए यहां जो होता है वह सब सही है।

प्रमुख के निरीक्षण के दौरान ही अनाज लदे एक ट्रक पर से एक डीलर ने अनुरोध किया मुझे ट्रक पर से ही डिलवरी दिया जाए तो एजीएम नहीं दी। गोदाम में पूर्व से रखे गए अनाज का बोरा ही डिलवरी किया गया। जब दोनों अनाज के बोरा का तौल कराया गया तो ट्रक पर लदा एक बोरा अनाज का वजन साढ़े पचास किलोग्राम पाया गया वहीं गोदाम में पूर्व से रखे अनाज का बोरा जो डीलर को आपूर्ति किया जाता है उसकी तौल कराई गई तो उसका वजन मात्र 48 किलोग्राम पाया गया। जानकारी मिली कि प्रति माह इस गोदाम से करीब 8200 क्विटल अनाज का वितरण इस गोदाम से किया जाता हैं। निरीक्षण के क्रम में अपने अवैध कारनामे पर पर्दा डालने के लिए कई हथकंडे अपनाते हुए प्रमुख के साथ प्रोटोकाल को भी नजरअंदाज किए जाने के आरोप लगाए गए हैं।

Edited By: Jagran