मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

संवाद सूत्र, गोरौल : सोनपुर मंडल के हाजीपुर-मुजफ्फरपुर रेलखंड के गोरौल स्टेशन पर एक ही रेल लाइन पर गुरुवार को दो गाड़ियों के आ जाने से अफरातफरी मच गई। लेकिन चालक की सूझ-बूझ से एक बड़ा हादसा होते-होते बचा। इस दौरान मची भगदड़ में कई यात्री जख्मी हो गए। घटना को लेकर डीआरएम ने जांच के आदेश दिए हैं।

गोरौल रेलवे स्टेशन पर पहले से सिवान-समस्तीपुर सवारी गाड़ी संख्या 55022 प्लेटफार्म संख्या एक पर खड़ी थी। इसी बीच इसी लाइन पर पीछे से हाजीपुर के तरफ के 12566 बिहार संपर्क क्रांति आ गई। यह देख सवारी गाड़ी में बैठे पैसेंजर इधर-उधर भागने लगे। भागाभागी में शालू देवी, सविता देवी, चंदन कुमार, शौकत खातून जख्मी हो गई। उन्हें राजकीय अस्पताल गोरौल में भर्ती कराया गया, वहां से सभी को हाजीपुर रेफर कर दिया गया।

बिहार संपर्क क्रांति एक्सप्रेस के चालक रवि शंकर कुमार ने बताया कि हमे अचानक दिखा कि जिस लाइन पर हमारी गाड़ी जा रही है उसी लाइन पर पहले से कोई गाड़ी खड़ी है। हमने तुरंत इमरजेंसी ब्रेक लगाकर लगभग 200 मीटर पहले ट्रेन रोक दी। वहीं दूसरी तरफ पैसेंजर ट्रेन के गार्ड विश्वजीत कश्यप ने बताया कि जब मैंने देखा कि इसी लाइन पर पीछे से कोई गाड़ी आ रही है तो लाल झंडी दिखाते हुए दौड़ा और लगभग 200 मीटर दौड़कर गाड़ी को रोकवाने में सफल रहा। इस दौरान कुछ लोगों ने ने अफवाह फैला दी कि एक ही लाइन पर दूसरी गाड़ी आ रही है और तुरंत टक्कर होने वाली है। यह सुन पैसेंजर गाड़ी के यात्री भागने लगे जिसमे चार लोग जख्मी हो गए। इस घटना से उग्र यात्री स्टेशन पर तोड़फोड़ करने लगे। स्टेशन अधीक्षक सुनील कुमार सिन्हा भी लोगों के हंगामे में जख्मी हो गए। सूचना मिलते ही एसडीपीओ मुंद्रिका प्रसाद, थानाध्यक्ष अनिल कुमार, विदेश्वर सिंह पुलिस बल के साथ स्टेशन पर पहुंचे। आरपीएफ सोनपुर के कमांडेंट दीपक चतुर्वेदी, जीआरपी मुजफरपुर के थानाध्यक्ष अच्छे लाल सिंह यादव भी पुलिस बल के साथ स्टेशन पर पहुंचे तथा यात्रियों को समझाकर पैसेंजर ट्रेन को मुजफ्फरपुर रवाना किया। उसके बाद पुन: उसी लाइन पर बिहार सम्पर्क क्रांति को लाया गया। करीब दो घंटे 15 मिनट तक ट्रेन खड़ी रही। उसके बाद उसे दरभंगा के लिये रवाना किया गया।

मंडल रेल प्रबंधक सोनपुर अनिल कुमार गुप्ता ने बताया कि पहले से एक पैसेंजर ट्रेन लाइन संख्या एक पर खड़ी थी। पीछे से बिहार संपर्क को निकालना था। इस दौरान पूरी सावधानी बरती जाती है। एक ही लाइन पर कैसे ऐसे हुआ, इसकी जांच के लिये कमेटी गठित की जाएगी। एक माह पूर्व ही डबल लाइन के लिये इन्टरलॉकिग का कार्य किया गया था। हमारा ड्राइवर पहले से सावधान था। इसलिए कोई दुर्घटना नहीं हुई। जांच रिपोर्ट आने के बाद जो दोषी होगा उसके ऊपर कार्रवाई की जाएगी।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप