संवाद सूत्र, जंदाहा : भाजपा के लोग कहते हैं कि जो लोग भाजपा को वोट नहीं देंगे उन्हें पाकिस्तान भेजा जाएगा। महागठबंधन के नेता ऐसे लोगों को रेगिस्तान भेज देंगे। नेता वह नहीं जो अपने लिए जीये, नेता वैसा होना चाहिए जो सामाजिक न्याय के साथ समाज के दबे-कुचले, शोषित पिछड़े के हक और अधिकार के लिए अपनी आवाज बुलंद करता रहे। अपने घर में अपने लोगों से वोट मांगा नहीं जाता है। आप सभी लोग हमारे साथ सामाजिक न्याय की लड़ाई में हमें सहयोग करें। उक्त बातें आज उजियारपुर लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र से महागठबंधन प्रत्यासी रालोसपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा ने नाड़ीकलां गांव के श्रीराम चौक स्थित खेल मैदान परिसर में चुनावी जनसभा को संबोधित करते हुए कही।

उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार के 15 साल के शासनकाल में विद्यालय को भोजनालय बना दिया गया। सरकारी विद्यालय में शिक्षकों की घोर कमी से पठन-पाठन नहीं हो पा रहा है। जो भी शिक्षक हैं वह बच्चों को खिचड़ी खिलाने एवं खिचड़ी का हिसाब रखने में व्यस्त रहते हैं, जिससे विद्यालयों में पढ़ाई नहीं हो पाती है। हम चाहते हैं कि गांव के बच्चे को भी अच्छी शिक्षा मिले ताकि गांव की तस्वीर बदल सके। जब तक बिहार में शिक्षा में सुधार नहीं होगा, तब तक बिहार आगे नहीं बढ़ेगा। उन्होंने कहा कि हमने सामाजिक न्याय की खातिर भारत सरकार के मंत्री पद को भी कुर्बान कर दिया। अगर समाज के हक और अधिकार के लिए ऐसी कुर्बानियां देनी पड़े तो मैं बार-बार कुर्बानी देता रहूंगा। उन्होंने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर तंज कसते हुए कहा कि नीतीशजी कहा करते थे कि हम मिट्टी में मिल जाएंगे लेकिन भाजपा के साथ नहीं जाएंगे। लेकिन उनकी करनी एवं कथनी में फर्क है। उन्होंने कहा कि आज हमारे महागठबंधन के सबसे बड़े नेता लालू प्रसाद यादव जेल में बंद हैं। हम सभी को उनकी कमी खल रही है। सभा की अध्यक्षता रामबालक राय एवं संचालन अरुण कुमार सिंह ने किया।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021