वैशाली [जेएनएन]। बिहार के वैशाली जिले के मंगुराही गांव में बीते चार वर्ष से खेती में हो रहे घाटे और कृषि कार्य हेतु लिए गए ऋण की अदायगी के लिए बढ़ते दबाव से परेशान एक युवा किसान ने खुदकशी कर ली। किसान महेश राय (30) गांव के मछु राय का पुत्र था जो गत आठ वर्षों से अपने पिता से अलग रहता था।

अलग होने के बाद महेश लीज पर जमीन लेकर तम्बाकू व सब्जी की खेती करता था। शुरुआती एक-दो वर्ष तो स्थिति ठीक रही लेकिन धीरे-धीरे खेती में लगने वाली पूंजी की वापसी भी मुश्किल हो गई। इसके बाद वह बैंक और गांववालों से कर्ज लेकर खेती करने लगा।

पिता मछु राय ने बताया कि हाल ही में उसने एक कट्ठा जमीन बेच कर कुछ कर्ज चुकाया था। बांकी बचे पैसे चुकाने के लिए भी उस पर लगातार दबाव बढ़ता जा रहा था।

पत्नी मिंटू देवी ने बताया कि उसके पति गांववालों के साथ बैंक से केसीसी कर्ज लिए हुए था। बैंक से भी अदायगी के लिए उसे नोटिस दी गई थी। इससे विचलित होकर उसने खुदकशी कर ली। महुआ बीडीओ ने बताया कि उन्हें ऐसी कोई सूचना नहीं मिली है। सूचना मिलने पर वे इसकी जांच करेंगे।

Posted By: Ravi Ranjan

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस