वैशाली। अपनी स्थापना के 27 वर्ष बाद भी बेलसर सहायक थाने को अपना भवन नसीब नहीं हो पाया। यह सहायक थाना पटेढ़ी बेलसर पंचायत भवन में चल रहा है। आज वह पंचायत भवन भी जर्जर हालत में पहुंच गया है। यहां तैनात पुलिसकर्मी किसी तरह यहां अपनी ड्यूटी पूरी कर रहे रहे हैं।

मालूम हो कि वर्ष 1991 में इस पंचायत भवन का निर्माण तत्कालीन मुखिया गगनदेव प्रसाद ¨सह ने जवाहर रोजगार योजना से कराया था। बेलसर में सहायक थाना वर्ष 1995 खुला था। इस सहायक थाने में पुलिस कर्मियों के रहने के लिए कमरों की भी कमी है। महज एक कमरे में ही सभी पुलिसकर्मी रहने को मजबूर हैं। पुलिस अधिकारी पेड़ के नीचे बैठकर कार्यों का निष्पादन करते हैं। इस पंचायत भवन में चहारदीवारी नहीं रहने के कारण असुरक्षा की स्थिति बनी रहती है। पुलिस पदाधिकारियों के रहने के लिए आवास की भी व्यवस्था नहीं है। पुलिस कर्मी आवास के अभाव में आसपास किराये के मकान में रहते हैं। सैफ जवान प्रखंड के आपूर्ति विभाग के कार्यालय में रहते हैं। भवन की हालत इस कदर जर्जर हो चुकी है कि यहां कार्यरत पुलिस कर्मी जान जोखिम में डाल कर काम कर रहे हैं। कागजातों को सुरक्षित रखने में भी पुलिस कर्मियों के पसीने छूट जाते हैं। भवन की छत कभी भी टूटकर गिर सकती है। दीवार का प्लास्टर भी कई जगहों पर टूटा हुआ है। जर्जर भवन की हालत देख यहां कार्य करने वाले पुलिस कर्मी हमेशा सहमे रहते हैं। सहायक थाने के कार्यालय कक्ष की स्थिति ऐसी बनी हुई है कि उसमें रखे गये कागजात भी सुरक्षित नहीं हैं। बारिश के समय पानी से बचाव के लिए पुलिस कर्मी पॉलीथिन का सहारा लेते हैं।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप