सुपौल। बिहार लोकल बॉडीज इम्प्लाइज फेडरेशन एवं बिहार राज्य स्थानीय निकाय कर्मचारी महासंघ, वीरपुर शाखा के तत्वावधान में गुरुवार को दूसरे दिन भी नगर पंचायत वीरपुर के दैनिक सफाई कर्मचारी एवं दैनिक वेतनभोगी अपनी मांगों के समर्थन में गोल चौक पर शांतिपूर्ण धरना पर बैठे हैं। धरनास्थल पर कार्यपालक पदाधिकारी सुशील कुमार ने पहुंचकर समझाने का प्रयास किया, मगर सफाई कर्मी सफाई जमादार अनिल सिंह की जेल से वापसी तक काम न करने की मांग पर अड़े रहे। महासंघ के स्थानीय मंत्री अनिल कुमार चौधरी के नेतृत्व में जारी सफाईकर्मियों के धरना-प्रदर्शन के बाबत मंत्री ने बताया कि नगर पंचायत के सफाई कर्मी एवं मुख्य पार्षद के बीच उपजे विवाद में आक्रोशित कर्मियों द्वारा बुधवार को जो उग्र प्रदर्शन गोल चौक पर किया और कार्यालय में कुछ घंटों के लिए तालाबंदी की उससे क्षुब्ध होकर कार्यपालक पदाधिकारी ने नवंबर माह का दैनिक वेतनभोगियों का 13 तारीख तक की हाजिरी बिना किसी स्पष्टीकरण के काट दी। बोले मुख्य पार्षद-सफाई जमादार विवाद में जेल भेजे गए जमादार के वापसी, समेत बिहार सरकार के श्रम संसाधन विभाग के निर्धारित दैनिक मजदूरी/मानदेय के तहत भुगतान सुनिश्चित नहीं हो जाता और पदाधिकारियों द्वारा मानसिक प्रताड़ना देना बंद नहीं किया जाता तब तक आंदोलन जारी रहेगा। धरनास्थल पर नगर पंचायत के कार्यपालक पदाधिकारी सुशील कुमार ने पहुंचकर धरना पर बैठे सफाईकर्मियों और अन्य को समझाने की भरपूर कोशिश की। लेकिन कर्मी मांग पूरी होने एवं सफाई जमादार के वापसी तक आंदोलन की बात पर अड़े रहे। लेकिन 12 बजे के करीब मंत्री ने बताया कि सर्वसम्मति से तत्काल धरना को स्थगित किया गया है। जब तक सफाई जमादार वापस नहीं आ जाता है। धरना पर बैठे सफाई कर्मियों में मनोहर राउत, जीतू राउत, महेंद्र मरीक, निर्मल मरीक, राणा राउत, शंभू राउत, दिलीप मरीक, सूरज मरीक आदि दर्जनों कर्मी उपस्थित थे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस