सुपौल। नवपदस्थापित पुलिस अधीक्षक मनोज कुमार ने जिले में पुलिसिग को सही परिभाषित करने के लिए सबसे पहले अपनी ही व्यवस्था को दुरुस्त करना शुरु किया है। अचानक किसी थाने पहुंच जा रहे हैं और पुलिस की तत्काल की स्थिति से खुद अवगत हो रहे हैं। इस क्रम में उन्होंने जिला मुख्यालय के मुख्य सड़कों से गुजरकर कुछ अन्य थाना क्षेत्रों का भी निरीक्षण किया। दो दिन पूर्व उन्होंने रात्रि में ही टाउन थाना का औचक निरीक्षण किया था। बुधवार की मध्यरात्रि वे जिला मुख्यालय की सड़कों का हाल जानते पिपरा थाना पहुंच गए। इस क्रम में उन्हें रात्रि गश्ती गाड़ी भी मिली और चौराहे पर चौकीदार भी। उन्होंने इस थाना क्षेत्र की स्थिति और चौकसी पर संतोष जाहिर किया। पुलिस अधीक्षक ने बताया कि शहरी क्षेत्र में ही एक बाइक सवार मिला था जो फिर आगे भी मिला, जो नशे की हालत में था उसे थाने को सुपुर्द कर दिया गया। हालांकि उनके इस तरह के निरीक्षण से पुलिस कर्मियों में हड़कप देखा जा रहा है। पुलिस अधीक्षक के तेवर को देखते ही अक्सर देर रात थानों के बैरकों में खर्राटे भरने वाली पुलिस अब सड़कों पर मुस्तैद नजर आ रही है। कल तक चैन की वंशी बजाने वाले पुलिस कर्मियों को इस बात का भय सता रहा है कि पता नहीं कब और कहां साहब का काफिला धमक जाए। पदभार संभालने के बाद नए पुलिस अधीक्षक ने अपनी कार्यशैली से साफ कर दिया है कि वे अपराध एवं अपराधियों से किसी तरह का कोई समझौता नहीं करने वाले। एसपी के इस रूख का असर भी दिख रहा है। जिले में रोज शराब की खेप पकड़ी जा रही है। वहीं वारंटियों के गिरफ्तारी में भी तेजी आई है। इतना ही नहीं एसपी साहब खुद कई थाना क्षेत्र में जाकर पुलिस गश्त का हाल देख रहे हैं। निरीक्षण के दौरान एसपी ने थानाध्यक्ष अखिलेश कुमार से पूछताछ की तथा कई आवश्यक निर्देश दिए। इस दौरान थाना परिसर में गार्ड रूम, हाजत परिसर में जब्त गाड़ी आदि को बारीकी से देखा रात्रि में गश्ती लगा रहे पुलिस दल से भी पूछताछ की। गश्ती वाहन का खराब टायर को देखते ही पुलिस अधीक्षक ने थानाध्यक्ष व चालक को बुलाकर अविलंब बदलने का आदेश दिया। वहीं एसपी ने ड्यूटी पर तैनात चौकीदार को भी बुलाकर पूछताछ किया और कई निर्देश दिए। औचक निरीक्षण से पुलिसकर्मियों में हड़कंप है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस