जागरण संवाददाता, सुपौल: मंगलवार को सदर प्रखंड परिसर स्थित टीसीपी भवन में सात निश्चय योजना के तहत पक्की गली एवं नली योजना अंतर्गत क्रियान्वित योजना, लोहिया स्वच्छ बिहार अभियान अंतर्गत प्रखंड स्तर पर चल रही योजना को लेकर समीक्षात्मक बैठक की गई। डीआरडीए डायरेक्टर बृजबिहारी भगत व सदर अनुमंडल पदाधिकारी कयूम अंसारी की अध्यक्षता में सदर प्रखंड के पंचायत सचिव, किसान सलाहकार सहित अन्य लोगों के बीच समीक्षा की गई। समीक्षा के मौके पर पंचायत के अलग-अलग हर वार्ड में वार्ड सदस्य के द्वारा योजना में खर्च किया जाना है। कहीं वार्ड में राशि पूर्ण खर्च कर ली गई है। कहीं वार्ड में राशि जस की तस रखी हुई है। जबकि सरकार के द्वारा निर्देश था कि राशि को 31 दिसंबर 2019 तक ही खर्च कर लेना था। लेकिन वह खर्च नहीं हो पाया है। जिसके लिए सरकार ने पुन: समय देते 31 जनवरी 2020 तक सभी वार्ड सदस्य को अपने-अपने क्षेत्र में खर्च करने का निदेश दिया है। अन्यथा वार्ड समिति का जो गठन किया गया है उसके माध्यम से राशि वापस करनी होगी। सदर प्रखंड में वीणा पंचायत में सबसे अधिक दो करोड़ से अधिक राशि बची हुआ है। शेष सभी पंचायत में कुल मिलाकर 23 करोड़ की राशि बैंक में शोभा बढ़ा रही है। डीआरडीए निदेशक और सदर अनुमंडल पदाधिकारी ने कहा कि 31 जनवरी 2020 तक उस राशि को खर्च कर लें, अन्यथा राशि को वापस करनी होगी। सदर प्रखंड के प्रखंड विकास पदाधिकारी को कहा गया कि अपने स्तर से पंचायत के मुखिया से संपर्क कर जहां वार्ड में खर्च नहीं हो पा रहा है जो वार्ड सदस्य दिलचस्पी नहीं ले रहे हैं उनके विरुद्ध उचित कानूनी कार्रवाई करें। बैठक में पंचायत सचिव के द्वारा बताया गया कि पंचायतों में तरह-तरह की कठिनाई होती है, उसे दूर कर उक्त राशि को खर्च कर दी जाएगी। बैठक में प्रखंड विकास पदाधिकारी राहुल राज ने बताया कि समय सीमा के अंदर सभी पंचायत के वार्ड में राशि खर्च कर दी जाएगी। उन्होंने पंचायत के मुखिया, पंचायत के वार्ड सदस्य का एक बैठक बुलाकर उन्हें सही दिशा-निर्देश दिया जाएगा।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस