संवाद सूत्र, सरायगढ़(सुपौल): भारत सरकार द्वारा चलाए गए स्वाभिमान भारत योजना के तहत संबंधित परिवारों का स्वास्थ्य कार्ड बनाने के नाम पर सरायगढ़-भपटियाही प्रखंड क्षेत्र के विभिन्न जगहों पर नजराना लिए जाने का मामला सामने आ रहा है। जानकारी अनुसार स्वाभिमान भारत के तहत स्वास्थ्य कार्ड बनाने को लेकर अलग-अलग कर्मी को जिम्मेदारी दी गई है। प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र सरायगढ़ भपटियाही में स्वास्थ्य कार्ड मुफ्त में बनाए जाएंगे, जबकि ग्रामीण क्षेत्र में प्रति व्यक्ति 30 रुपया की दर से देने के बाद कार्ड बनाया जाएगा। लेकिन कार्ड बनाने के लिए अधिकृत लोग प्रति व्यक्ति से कहीं 50 तो कहीं एक 100 तक ले रहे हैं। जिससे लोगों में आक्रोश बढ़ रहा है। प्रखंड के झिल्ला डुमरी पंचायत अंतर्गत वार्ड नंबर 9 में बुधवार के दिन लोगों से प्रति व्यक्ति 50 की दर से वसूली की गई। जिस कारण वहां के लोगों ने भारी आक्रोश जताया है। उधर इटहरी गांव में भी स्वास्थ्य कार्ड बनाने के नाम पर नाजायज राशि लिए जाने का मामला सामने आया है। प्रखंड क्षेत्र के अन्य जगहों से कई लोगों ने जानकारी देते बताया कि जो भी लोग स्वास्थ्य कार्ड बनाने गांव में पहुंचते हैं उनके द्वारा निर्धारित राशि से दुगुनी राशि ली जाती है जो गलत है। इस संबंध में पूछे जाने पर स्वास्थ्य प्रबंधक ने बताया के स्वाभिमान भारत योजना के तहत स्वास्थ्य कार्ड बनाने की जिम्मेदारी कई जगहों पर सीएसपी संचालकों को दी गई है। बताया कि जिन लोगों का गांव में स्वास्थ्य कार्ड बनाया जाएगा उनसे प्रति व्यक्ति मात्र 30 रुपये कर ही लिया जाएगा। बताया कि स्वास्थ्य केंद्र में मुफ्त में कार्ड बनाए जाते हैं।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस