संवाद सहयोगी, निर्मली(सुपौल): नगर को अतिक्रमण एवं जाममुक्त किए जाने को लेकर लगाए गए नो एंट्री के प्रथम दिन सोमवार को अनुमंडल पदाधिकारी नीरज नारायण पांडे व अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी बैद्यनाथ सिंह ने पुलिस बल के साथ नगर के विभिन्न सड़क मार्गों का निरीक्षण किया। निरीक्षण के क्रम में कई बड़ा वाहन सड़क पर खड़ा दिखाई दिया। सड़क पर खड़े बड़े वाहनों के कागजात की जांच निर्मली थाना के एसआई अमित कुमार के द्वारा किया गया। वाहनों से संबंधित कागजात सही सलामत होने के बाद नो एंट्री में प्रवेश किए हुए वाहनों से पांच सौ रुपये प्रति वाहन की दर से नो एंट्री जुर्माना राशि की वसूली की गई। वाहन चालक ने बताया कि नो एंट्री की जानकारी उन्हें नहीं थी। यहां तक कि माल लोडिग के लिए बुलाने वाले व्यवसायी ने भी नो एंट्री के बारे में नहीं बताया। इस पर अनुमंडल पदाधिकारी ने वाहन चालक से कहा कि नगर में 2 दिसंबर से नो एंट्री लगाए जाने को लेकर लाउडस्पीकर से प्रचार-प्रसार कराया गया है। यहां तक कि नगर के व्यवसायियों, जनप्रतिनिधियों एवं गणमान्य नागरिकों की विगत दिनों थाना परिसर में बैठक बुलाकर सहमति लेते हुए जानकारी दी गई है। पदाधिकारियों के सड़क पर गश्त किए जाने से कई बड़े वाहन अपनी दिशा बदल कर नगर से बाहर निकल गए। वहीं 4 चक्के की सवारी गाड़ी पिकअप वैन सहित 3 चक्के की टेम्पू से नगर का मुख्य मार्ग भरा दिखाई दिया। अनुमंडल पदाधिकारी ने बताया कि 2 दिसंबर 2019 से नगर में छह छक्के के वाहन (ट्रैक्टर) एवं छह छक्के से ऊपर के वाहनों पर दिन के 12:00 बजे से 4:00 बजे तक नो एंट्री लगाया गया है। यह तो शुरुआत है। अगर जाम की समस्या से निजात नहीं मिली तो टेम्पू के नगर में प्रवेश एवं नो एंट्री के निर्धारित समय में भी परिवर्तन किया जा सकता है। नो एंट्री को लेकर व्यवसायियों, जनप्रतिनिधियों एवं आम नागरिकों के सहयोग से प्रशासनिक स्तर पर उठाया गया कदम जनहित के लिए उपयोगी है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस