सुपौल। सड़क दुर्घटना में कमी लाने तथा बच्चों में संस्कार युक्त शिक्षा विकसित करने के उद्देश्य शनिवार को मिलन मैरेज पैलेस में जिला पुलिस तथा प्राइवेट स्कूल एसोसिएशन जिला इकाई सुपौल के संयुक्त तत्वाधान में एक दिवसीय जागरूकता समारोह का आयोजन किया गया। जिसमें सड़क दुर्घटना के कारण लोगों की हो रही असामयिक मौत को कम करने के लिए ट्रैफिक नियमों को अभियान की तरह अपना कर जन-जन तक पहुंचाने का संकल्प लिया गया। कार्यक्रम का उद्घाटन जिलाधिकारी महेंद्र कुमार, पुलिस अधीक्षक मनोज कुमार, जिला शिक्षा पदाधिकारी योगेश मिश्रा, जिला कार्यक्रम पदाधिकारी रजनीकांत प्रवीण, पुलिस उपाधीक्षक विद्यासागर ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्ज्वलित कर किया। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए जिलाधिकारी ने कहा कि आज लोगों की असामयिक मौत में सबसे अधिक सड़क दुर्घटना शामिल है। जिसकी भरपाई न किसी सरकारी अनुदान से की जा सकती है और ना ही राशि से। जरूरत इस बात की है कि हम न सिर्फ स्वयं ट्रैफिक नियमों का पालन करें बल्कि अन्य लोगों को भी इसके बारे में जागरूक करें। कहा कि जीवन अनमोल है इसे स्वयं की गलती से सड़क पर बेमौत न गवाएं। सड़क दुर्घटना को हम जागरूकता के माध्यम से बहुत हद तक कम कर सकते हैं। इसे जन-जन का अभियान बनाने की जरूरत है। यदि लोग इसके प्रति जागरूक हो जाए तो फिर प्रशासन को भी सख्ती बरतने की जरूरत नहीं पड़ेगी। आपसी समन्वय कर ही हम इस क्षेत्र में बेहतर कर सकते हैं। कहा कि सड़क किनारे स्थित सरकारी सभी विद्यालयों को चहारदीवारी से लैस किया जाएगा। प्राइवेट स्कूल भी इसे प्राथमिकता से लें। आज समय की मांग है कि बच्चों में नैतिक शिक्षा का विकास किया जाए। उन्हें समाज में फैले सामाजिक कृतियों के बारे में भी जागरूक करने की जरूरत है। जल-जीवन- हरियाली अभियान पर प्रकाश डालते हुए जिलाधिकारी ने कहा कि पर्यावरण के कुप्रभाव का असर अब दिखने लगा है। अब जरूरत है कि हम सब पर्यावरण के प्रति संवेदनशील हो। इसके लिए सघन वृक्षारोपण अभियान को चलाने की जरूरत है। पुलिस अधीक्षक मनोज कुमार ने कहा कि ट्रैफिक नियमों की जानकारी बिना शिक्षा अधूरी हो जाती है। कानून के मुताबिक ट्रैफिक नियमों का उल्लंघन करने पर पुलिस कार्यवाही कर सकती है। लेकिन इससे पहले जरूरत है लोगों को जागरूक होने की। सामूहिक जागरूकता पैदा कर हम सड़क दुर्घटना को कम कर सकते हैं। इसी कड़ी के तहत हमने सड़क सुरक्षा पखवारा चलाने का फैसला लिया है। आगामी 7 दिसंबर से सड़क सुरक्षा पखवारा का आयोजन किया जाएगा। जिसके तहत आम लोगों को ट्रैफिक नियमों से अवगत कराया जाएगा। आशा है कि दिसंबर के अंत तक हम सुपौल जिले में ट्रैफिक नियमों से लोगों को अवगत करा देंगे। इसके बाद लोगों द्वारा यदि ट्रैफिक नियमों का उल्लंघन किया जाता है तो फिर कानून प्रक्रिया के तहत सख्त कार्यवाही की जाएगी। कहा कि एक सर्वे के दौरान यह बात सामने आई है कि सुपौल में सिर्फ 16 प्रतिशत लोग ही हेलमेट पहनते हैं। हमने यह कह रखा है कि यदि सड़क पर मोटरसाइकिल है तो फिर सिर पर हेलमेट होनी ही चाहिए। इसमें किसी तरह की बहानाबाजी नहीं चलेगी। कहा कि सामूहिक समस्याओं के निदान को लेकर हमने जिले के सभी थाने में प्रत्येक शनिवार को जनसंवाद गोष्ठी करने का निर्देश दे रखा है। आम लोगों से भी अपील करते हैं कि वे इस संवाद में भाग लेकर सामूहिक समस्याओं के निदान को लेकर आगे आएं। ट्रैफिक नियमों को कारगर बनाने व आम लोगों को जागरूक करने के लिए स्कूली बच्चों के बीच प्रतियोगिता का भी आयोजन किया जाएगा। इससे पूर्व आए सभी अतिथियों का स्वागत न्यू कैम्ब्रिज रेसिडेंशियल स्कूल वीरपुर के छात्र-छात्राओं द्वारा स्वागत गान गाकर किया गया। एसोसियेशन के जिलाध्यक्ष श्याम किशोर ठाकुर की अध्यक्षता तथा उपाध्यक्ष सह न्यू कैम्ब्रिज रेसिडेंशियल स्कूल वीरपुर के निदेशक मिथिलेश कुमार झा संचालन वाले इस समारोह में उपाध्यक्ष उमेश यादव, सचिव प्रमोद कुमार, जिला प्रवक्ता विजय देव, बैजू मैथ्यू, बीएन जोसफ, अतुल कुमार का अहम योगदान रहा। संगीत शिक्षक उमेश कुमार झा के निर्देशन में स्कूली बच्चों के द्वारा ट्रैफिक नियम से संबंधित बातों को गायन के रूप में बेहतर ढंग से प्रस्तुत किया गया।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस