-खेत में काट कर रखी गेहूं फसल को आंधी-बारिश ने किया बर्बाद

----------------------------

-कोट

आंधी-बारिश से फसल को क्षति पहुंची है। क्षति के आकलन करने को लेकर टीम को तैयार कर लिया गया है। विभाग द्वारा क्रॉप कटिग भी किया जा रहा है। उपज दर कम होने के बाद बीमित किसानों को सरकारी सहायता प्रदान की जाएगी।

प्रवीण कुमार झा

जिला कृषि पदाधिकारी

---------------------------

-कोट

पिछले दिनों से हो रही बेमौसम बारिश किसानों के लिए आफत बन गई है। बारिश के कारण गेहूं के डंठल और बाली के गलने की संभावना हो चुकी है। ऐसे में आगामी दलहन फसल के लिए यह बीमारियों की सौगात लेकर आएगी। डंठल के गलने से विभिन्न प्रकार की बीमारियों की संभावना बन गई है। जो गेहूं बच जाता है उसके दानों में भी दवाई मिलाकर रखने की जरूरत है। ताकि दाने को अधिक दिन तक बचाया जा सके।

मनोज कुमार

कृषि वैज्ञानिक

कृषि विज्ञान केंद्र, राघोपुर

------------------------------

जागरण संवाददाता, सुपौल: मंगलवार की शाम आई तेज आंधी-बारिश ने किसानों की कमर तोड़ कर रख दी है। जहां तेज हवा से खेतों में लगी फसल जमीन पकड़ ली है। वहीं मूसलाधार बारिश ने फसलों पर प्रतिकूल प्रभाव डाल दिया है। हालांकि पिछले कई दिनों से रुक-रुक कर हो रही बारिश से किसान मुसीबत में थे कि मंगलवार की रात तेज बारिश ने उनके मंसूबों पर ही पानी फेर दिया है। किसानों का कहना है कि पिछले कई वर्षो की अपेक्षा इस बार रबी की फसल बेहतर होने की संभावना थी। लग रहा था कि इस बार गेहूं की उपज फायदे देकर जाएगी। इसको लेकर किसान खुश नजर आ रहे थे। शायद इंद्रदेव भगवान को किसानों की यह खुशी रास नहीं आई और जब फसल समेटने की बारी आई तो प्रकृति ने ऐसा कहर बरपाया कि किसानों को खून के आंसू रुलाने को मजबूर कर दिया। किसानों को कुछ समझ में नहीं आ रहा कि आखिर उनके साथ यह क्या हो रहा है। उनका कहना है कि बारिश ने खासकर कटाई कर रखी गेहूं को मिट्टी का भाव कर दिया है। जहां बारिश और आंधी से कटे हुए खड़े गेहूं पानी से लथपथ हो चुका है। वहीं किसानों को मुसीबत में डाल दिया है। बारिश के पानी से भीगे गेहूं की चमक धूमिल हो गई है। वहीं गेहूं की बाली भी टूट कर खेतों में बिखर चुकी है। गेहूं की चमक कम होने के कारण इसका सीधा असर कीमत पर पड़ना है। किसानों का कहना है कि यदि मौसम ऐसा ही रहा तो फिर दाने में अंकुरण होने की संभावना हो जाएगी। वहीं बारिश के साथ आई तेज आंधी ने मक्का फसल को भी तहस-नहस कर दिया है। तेज हवा के कारण मक्का की फसल भी टूट कर जमीन पकड़ ली है।

Posted By: Jagran