जागरण संवाददाता, सुपौल: सुपौल संसदीय क्षेत्र से महागठबंधन की उम्मीदवार रंजीत रंजन ने बुधवार को मरौना प्रखंड में सघन जनसंपर्क चला कर अपने समर्थन में मतदाताओं को गोलबंद किया तथा मतदाताओं की आवाज को दिल्ली में मजबूत करने की प्रतिबद्धता दोहराई। इस दौरान उन्होंने कहा कि मरौना में कोसी नदी पर सुरक्षा बांध नहीं बनाए जाने की कसूरवार नीतीश सरकार है। कहा कि मरौना से हमारा रिश्ता बहुत पुराना रहा है। हम यहां तब भी आते रहे हैं जब मरौना आने में एक दिन और जाने में एक दिन लगता था। मरौना-निर्मली के बीच संपर्क के लिए कच्ची सड़क थी। 2004 में हमने व‌र्ल्ड बैंक की मदद से इस सड़क का निर्माण करवाया। मरौना में कई पुलों व सड़क का निर्माण मेरे द्वारा करवाया गया है। यहां सुरक्षा बांध बंधवाना मेरी प्राथमिकता है। लेकिन सब कुछ होने बाद भी नीतीश सरकार ने एनओसी नहीं दिया। जिसका नतीजा यह हुआ कि सुरक्षा बांध नहीं बना और परेशानी लोगों को हो रही है। महागठबंधन उम्मीदवार ने मोदी सरकार को अमीरों का हितैषी बताते हुए कहा कि उनकी सरकार में स्टार्टअप, स्टेंडअप, स्मार्टसिटी, आदर्श ग्राम, उज्ज्वला योजना, किसान बीमा जैसे तमाम योजनाओं में निजी कंपनियों को फायदा पहुंचाया गया है। कुछ लोगों के लिए यह चुनाव सिजनल है। ऐसे लोगों से देश को बचाने की जरूरत है। जनसंपर्क के दौरान उन्होंने मोदी और नीतीश सरकार को जमकर निशाने पर लिया और कहा कि मोदी जी आज पकौड़े बेचने की सलाह दे रहे हैं। गरीबी और बेरोजगारी दूर करने का यह तरीका सही नहीं। खुद को गरीब का बेटा बताने वाले मोदी जी आज खुद गरीबों के सपनों को मार रहे हैं। उन्होंने कहा कि अगर कांग्रेस की सरकार बनती है तो देश में अमन-चैन और सामाजिक सौहार्द एक बार फिर से बरकरार होगा। जात-पात, धर्म-संप्रदाय के नाम पर देश नहीं बंटेगा और देश की जनता को साथ लेकर देश का तेज गति से विकास किया जाएगा। बोली कि कांग्रेस ही एक ऐसी पार्टी है जो आजादी के बाद से लंबे समय तक देश की सेवा करती रही है और करती रहेगी। जरूरत है कांग्रेस को मजबूती प्रदान करने की। अगर आप हमें मजबूती प्रदान करेंगे तो आपकी आवाज को संसद में जोरदार तरीके से पहुंचाने और उठाने का काम करेंगे।

Posted By: Jagran