फोटो फाइल नंबर-12एसयूपी-7,13

संवाद सूत्र, पिपरा(सुपौल): प्रखंड प्रमुख रतन देवी व उप प्रमुख रानी देवी पर लगाया गया अविश्वास प्रस्ताव बुधवार को पारित हो गया। प्रखंड मुख्यालय स्थित टीसीपी भवन में हुई विशेष बैठक में कराए गए मतदान में 13 पंचायत समिति सदस्यों ने दोनों के विरुद्ध अविश्वास प्रस्ताव के पक्ष में तथा एक ने विरोध में मतदान किया। वहीं 9 पंचायत समिति सदस्य बैठक से अनुपस्थित रहे। बैठक की अध्यक्षता पंचायत समिति सदस्य शत्रुघ्न कुमार ने की। बैठक को लेकर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए थे। बैठक शुरू होने के साथ ही प्रमुख व उप प्रमुख पर लगाए गए आरोपों पर बारी बारी से सदस्यों ने अपना अपना पक्ष रखा। चर्चा के बाद प्रखंड विकास पदाधिकारी अर¨वद कुमार ने पंचायती राज अधिनियम 2006 की धारा 70 (4) के तहत मतदान कराया। मतदान से पूर्व अधिकारियों द्वारा वो¨टग को लेकर पंचायत समिति सदस्यों को आवश्यक जानकारी दी गई। अविश्वास प्रस्ताव के पक्ष में जयमाला देवी, मिथिलेश कुमार शर्मा, जयप्रकाश सरदार, अमीसुन खातुन, इंदु भारती, कंचन देवी, शत्रुघ्न कुमार, मीरा देवी, सतीश कुमार, बबली देवी, फूलो देवी, नूरइस्लाम तथा शलीहा प्रवीण ने अपना-अपना वोट दिया। वहीं विश्वास मत में रतन देवी ने अपना वोट डाला। सबसे दिलचस्प बात तो यह देखने को मिली कि मरीज बनी पंचायत समिति सदस्य शलीहा प्रवीण हॉस्पीटल से एम्बुलेंस पर आई वो¨टग करने जिसको देखने लोगों की भीड़ लग गई। प्रखंड प्रमुख व उप प्रमुख पर लगा अविश्वास को लेकर जब बुधवार को मतदान होना था जिसको लेकर प्रखंड मुख्यालय सहित ग्रामीण क्षेत्रों में अटकलों का बाजार गर्म था। सुबह से ही प्रखंड मुख्यालय की सड़कों पर भारी भीड़ देखी जा रही थी। किसी भी तरह का कोई हंगामा न हो उसके लिए अनुमंडल पदाधिकारी कयूम अंसारी खुद सुरक्षा व्यवस्था की कमान अपने हाथों में लिए हुए थे। जिले के कई थाना के थानाध्यक्षों के साथ-साथ बड़ी संख्या में पुलिस बल की तैनाती की गई थी। थानाध्यक्षों में पिपरा थानाध्यक्ष चन्द्रकांत गौरी, राघोपुर थानाध्यक्ष शिवशंकर कुमार, राजेश कुमार मंडल, सरायगढ़ भपटियाही थानाध्यक्ष भी मौजूद थे। अब लोगों की नजर प्रमुख व उप प्रमुख के चुनाव को लेकर नई तिथि की घोषणा पर टिक गई है।

Posted By: Jagran