सिवान। गुठनी प्रखंड के दरौली सीमा के समीप बरपलिया पंचायत के पूर्व बीडीसी सह देवरिया गांव निवासी सुमित्रा देवी के घर रविवार की मध्य रात्रि हथियार से लैस करीब एक दर्जन की संख्या में आए डकैतों ने भीषण डकैती की घटना को अंजाम दिया। घरवालों के अनुसार डकैतों ने नकद सहित आठ लाख की संपत्ति लूट ली। घटना को आसानी से अंजाम देने के लिए हथियार बंद डकैतों ने परिवार के सदस्यों को पहले बंधक बनाया, इसका जब महिलाओं ने विरोध किया तो डकैतों ने उनकी पिटाई कर दी । घटना की जानकारी के बाद स्थानीय पुलिस मौके पर पहुंची और जांच शुरू कर दी । वहीं सोमवार की दोपहर श्वान दस्ता की टीम ने घटना स्थल पर पहुंच कर जांच की।

परिजनों के अनुसार रविवार की रात्रि करीब 12 बजे गुठनी-दरौली मुख्य मार्ग स्थित देवरिया गांव निवासी पूर्व बीडीसी सुमित्रा देवी के घर डकैतों ने घर के बाहर बरामदे में सोए गृहस्वामी सुनील मिश्रा को हथियार के बल पर बंधक बना लिया और घर का मुख्य दरवाजा खोलवाया। दरवाजा खुलते ही डकैत घर में प्रवेश कर गए और महिलाओं के साथ मारपीट शुरू कर उनके जेवर उतरवा लिए। डकैतों द्वारा करीब एक घंटे तक उत्पात मचाने पर घर की महिलाएं भी सहम गईं। डकैत परिजनों को शोर मचाने पर बुरा अंजाम भुगतने की धमकी दे रहे थे। घटना को अंजाम देने के बाद डकैती आसानी से फरार हो गए। घटना के कुछ देर बाद गृह स्वामी सुनील मिश्रा ने स्थानीय चौकीदार हरेंद्र राम को मोबाइल पर डकैती की सूचना दी तथा स्थानीय थानाध्यक्ष का मोबाइल नंबर मांगा। थाना का नंबर मिलते ही गृह स्वामी ने थानाध्यक्ष दिलीप कुमार को सूचना दी और घर के बाहर निकलकर हो-हल्ला शुरू किया। अगल-बगल के लोग जबतक कुछ समझ पाते तब तक डकैत घटना को अंजाम देकर आसानी से भाग निकले थे।

घटना के सूचना पाकर थानाध्यक्ष दिलीप कुमार दल-बल के साथ घटनास्थल पर पहुंच मामले की छानबीन में जुट गए तथा डकैतों की गिरफ्तारी के लिए संदिग्ध ठिकानों पर पूरी रात छापेमारी की, लेकिन कोई सफलता हाथ नहीं लगी। वहीं घटना की सूचना पाकर मैरवा प्रभाग के इंस्पेक्टर अर¨वद कुमार रात्रि के करीब 2 बजे घटनास्थल पर पहुंचे और परिजनों से पूछताछ के बाद जांच पड़ताल में जुट गए। इस घटना से क्षेत्र में दहशत का माहौल है।

घटना के विरोध में ग्रामीणों का फूटा गुस्सा, हंगामा

इधर सोमवार की सुबह घटना के विरोध में ग्रामीणों ने पीड़िता के घर के सामने दरौली-गुठनी मुख्य मार्ग जाम कर दिया और पुलिस प्रशासन के विरुद्ध हंगामा शुरू कर दिया। ग्रामीण डॉक स्क्वाड बुलाने की मांग कर रहे थे। सूचना पर पहुंचे थानाध्यक्ष दिलीप कुमार ने ग्रामीणों को समझा बुझा एवं अपराधियों की शीघ्र गिरफ्तारी का आश्वासन देकर जाम हटवाया।

डॉग स्क्वाड की टीम ने की जांच

घटना के बाद सोमवार की दोपहर करीब डेढ़ बजे डॉग स्क्वायड की टीम मौके पर पहुंची और जांच की। जांच के क्रम में खोजी कुत्ते ने मकान के हर कमरों में अंदर जाकर सामानों को सूंघा। इस दौरान गुठनी थानाध्यक्ष के साथ जवान मौजूद थे।

एक माह में यह दूसरी घटना :

गुठनी प्रखंड के कोठवलिया गांव निवासी रामसकल नाथ तिवारी के घर ठीक एक माह पूर्व डकैतों ने इसी तरह घटना का अंजाम दिया था,

जिसमें पुलिस त्वरित कार्रवाई करते हुए 11 लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेजने का काम किया और कुछ सामान भी बरामद हुआ था।

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप